एससीओ शिखर बैठक ने नये युग का नया ब्लूप्रिंट खींचा

2018-06-10 14:32:09

10 जून को शांगहाई सहयोग संघगठन(एससीओ) की 18वीं शिखर बैठक पूर्वी चीन के शानतुंग प्रांत के छिंगताओ शहर में आयोजित हुई। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस बैठक की अध्यक्षता की और शांगहाई भावना का प्रचार कर साझा भविष्य का निर्माण करो विषय भाषण दिया।

अपने भाषण में उन्होंने एससीओ की स्थापना के 17 साल में मिली बड़ी उपलब्धियों की प्रशंसा की और विभिन्न पक्षों से शांगहाई भावना का प्रचार जारी रखकर युग की कठिन समस्याओं का समाधान करने और खतरे दूर करने, चुनौती का सामना करने की अपील की। उन्होंने आशा प्रकट की कि सदस्य देशों के नेता शांगहाई भावना के तहत एक ही नाव पर सवार होकर सहयोग कर एससीओ समुदाय के साझा भविष्य का निर्माण करेंगे।

उन्होंने कहा कि एससीओ ने ऐसी रचनात्मक साझेदारी स्थापित की है, जो गठबंधन और मुकाबला नहीं करता और किसी तीसरे पक्ष के खिलाफ भी नहीं है। यह अंतरराष्ट्रीय संबंधों के सिद्धांत और अभ्यास का महत्वपूर्ण सृजन है ,जिसने क्षेत्रीय सहयोग का नया मॉडल रचा। एससीओ हमेशा ही ओत-प्रोत जीवन शक्ति को कायम रखकर सहयोग की प्रेरणा शक्ति को मज़बूत करेगा। इसका मूल कारण है एससीओ ने आपसी विश्वास, आपसी लाभ, समानता, सलाह मश्विरा, विविधतापूर्ण सभ्यता का सम्मान करने और साझे विकास की खोज करने की शांगहाई भावना प्रस्तुत की है। उनका मानना है कि शांगहाई भावना सभ्यताओं में मुठभेड़, शीत युद्ध की विचारधारा और शून्य जमा खेल जैसी पुरानी विचारधारा को नहीं अपनाती है। इसने अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में नया चार्टर जोड़ा है और इसके अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को दिन ब दिन व्यापक मान्यता भी मिल रही है।

उन्होंने कहा कि हमें हाथों में हाथ मिलाकर चिरस्थाई शांति, आम सुरक्षा, समान समृद्धि, खुला और समावेशी, स्वच्छ और सुंदर विश्व की ओर बढ़ना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमें आतंकवाद, उग्रवाद और अलगाववाद पर प्रहार करने वाले वर्ष 2019-21 सहयोग दस्तावेज़ को सक्रियता से लागू करने, शांति कार्य समेत संयुक्त आतंकवाद विरोधी अभ्यास और सुरक्षा सहयोग मजबूत करना चाहिए।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी