भारत और चीन दे रहे हैं सक्रिय संकेत, द्विपक्षीय संबंध के विकास को मिलेगा समर्थन

2018-06-11 13:32:01

9 से 10 जून को शांगहाई सहयोग संगठन(एससीओ)का शिखर सम्मेलन छिंगताओ में आयोजित हुआ। अप्रैल में वूहान अनौपचारिक वार्ता के बाद चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छिंगताओ में एक बार फिर मुलाकात की। चीन स्थित भारतीय समाचार एजेंसी आईएएनएस के संवाददाता गौरव शर्मा ने कहा कि चीन और भारत समान प्रयास करते हुए द्विपक्षीय संबंध के विकास के लिए लगातार सक्रिय संकेत दे रहे हैं।

चीन और भारत एक दूसरे के महत्वपूर्ण पड़ोसी देश हैं, इसके साथ ही दोनों तेज़ विकास कर रहे नवोदित बाज़ार देश भी हैं। दोनों देशों के बीच कई समान हित मौजूद हैं। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने गत मार्च महीने में चीन में आयोजित दो सत्र के सम्मेलनों के प्रेस कॉन्फ्रेंस में चीन भारत संबंध को लेकर कहा था कि चीन ड्रैगन और भारत हाथी को सहयोग मज़बूत करना चाहिए, संदेह का स्थान विश्वास को लेना चाहिए। भारतीय संवाददाता गौरव शर्मा के विचार में वर्ष 2018 भारत-चीन संबंधों के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण साल है। उन्होंने कहा कि चीन ने चीन-भारत संबंधों को लेकर बहुत सक्रिय रूख अपनाया। चीन का मानना है कि दोनों देश आपस में सहयोग करना चाहिए, ताकि समान रूप से आगे बढ़ सकेंगे। चीन और भारत एक प्लस एक दो के बराबर नहीं, 11 के बराबर है। गौरव शर्मा का मानना है कि वर्तमान चीन-भारत संबंध अच्छे दौर में हैं। यह वर्ष द्विपक्षीय संबंध के विकास में अहम साल है।

गौरव शर्मा ने कहा कि अब भारतीय मीडिया द्विपक्षीय संबंध के विकास पर भी आशावान है। चीन और भारत अब सक्रिय संकेत दे रहे हैं। उनके विचार में चीन और भारत को द्विपक्षीय संबंधों में सकारात्मक सुधार के लिए लगातार प्रयास करने की बड़ी आवश्यकता है। (श्याओ थांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी