अमेरिका विचार बदलता रहा है, चीन तदनुरूप कदम उठाएगा

2018-06-16 09:31:59

15 जून को अमेरिकी व्यापारिक प्रतिनिधि दफ्तर ने 50 अरब मूल्य वाले अमेरिकी डॉलर के चीनी उत्पादों पर 25 प्रतिशत की टैरिफ़ बढ़ाने की अंतिम सूची जारी की, जिस में माल अमेरिका द्वारा अप्रैल की शुरूआत में जारी प्रारंभिक सूची के बराबर है। लेकिन अमेरिका ने नयी टैरिफ़ के तुरंत प्रभावी होने की घोषणा नहीं की।

इस के बाद चीनी वाणिज्य मंत्रालय ने वक्तव्य जारी कर कहा कि अमेरिका ने दोनों के बीच प्राप्त सहमति को नजरअंदाज देकर विचार बदलता रहा है और फिर एक बार व्यापारिक लड़ाई छेड़ी है। इस कार्यवाई ने द्विपक्षीय हितों को नुकसान पहुंचाने के साथ विश्व व्यापारिक व्यवस्था को भी बर्बाद किया है। चीन तुरंत समान पैमाने वाले टैरिफ़ बढ़ाने के कदम जारी करेगा। इस से पहले दोनों की वार्ता में संपन्न सभी आर्थिक व व्यापारिक उपलब्धियां भी तुरंत गैरप्रभावी होंगी।

अमेरिका की इस कार्यवाई के प्रति चीन-अमेरिका आर्थिक व व्यापारिक का विकास करने और द्विपक्षीय संबंधों के स्थिर विकास करने का प्रयास करने वाले लोगों को हैरान लगता है। चीन और अमेरिका की जनता के हितों की रक्षा करने के लिए चीन और अमेरिका ने पिछले एक महीने में पेइछिंग-वाशिन्टन-पेइचिंग तीन बार वार्ताएं कीं, निरंतर दोनों की समानताओं का विस्तार किया और समस्या के कदम ब कदम हल को आगे बढ़ाने की कोशिश की। लेकिन अमेरिका अपने विचार पर टडा रहा, जिस से चीन और अमेरिका द्वारा इस के लिए किये गये सभी प्रयास और अनुमानित उपलब्धियां गायब हो गयीं।

वास्तव में चीन के लिए इस परिणाम आकस्मिक घटना नहीं है। कारण यह है कि ट्रम्प सरकार के बदलने की कार्यवाइयों और पीछे इरादे के प्रति चीन स्पष्ट रूप से जानता है।

ट्रम्प सरकार के लिए हालिया फौरी मिशन है कि अमेरिका के मध्यमकालीन चुनाव की तैयारी करना। इसलिए इस की सभी कार्यवाइयां चुनाव पर निर्भर हैं। 15 जून को समय पर चीन के उत्पादों पर ज्यादा टैरिफ़ लगाने की सूची जारी करने से व्हाइट हाउस ने मतदाताओं को वचन दिया है, ताकि और ज्यादा मतों को जीत सके। लेकिन व्हाइट हाउस ने इस के तुरंत प्रभावी होने की घोषणा नहीं की, जिस का मकसद चीन पर अति बड़ा दबाव डालना है। अमेरिका के 1974 व्यापारिक कानून के मुताबिक अंतिम टैरिफ़ सूची के जारी होने के बाद राष्ट्रपति को 30 दिनों के बाद सूची के प्रभावी होने का अधिकार है। यदि अमेरिकी व्यापारिक प्रतिनिधि दफ्तर और चीन के बीच वार्ता में प्रगति मिलती, तो ट्रम्प और 180 दिनों के लिए स्थगित कर सकते हैं। निसंदेह अमेरिका इस टैरिफ़ सूची से आने वाली व्यापारिक वार्ता में और ज्यादा लाभ पाना चाहता है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी