मध्य-पूर्व और उत्तर अफ्रीका की परिस्थिति की व्यापक समीक्षा की सुरक्षा परिषद ने

2018-06-26 15:02:01

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के रोटिंग प्रेसीडेंसी रूस के पहल में सुरक्षा परिषद ने 25 जून को मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका की परिस्थिति की व्यापक समीक्षा पर सार्वजनिक बैठक का आयोजन किया। इस बैठक का लक्ष्य संबंधित पक्षों की आपसी समझ, आम राय को मज़बूत करना और क्षेत्रीय स्थिति में शिथिलता, स्थिरता लाना है।

संयुक्त राष्ट्र में स्थित चीनी उप प्रतिनिधि वू हाईथो ने कहा कि मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र की लगातार अस्थिरता के कारण न केवल इस क्षेत्र के सभी देशों और जनताओं की हितों को चोट पहुंचाया, बल्कि विश्व शांति और स्थिरता को आघात पहुंचाया। संबंधित देशों और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को संयुक्त, व्यापक, सहयोग और सतत सुरक्षा अवधारणा का पालन करना चाहिये। साथ ही उन्हें मानव भाग्य समुदाय का संयुक्त निर्माण करना चाहिये।

मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका मुद्दे को हल करने पर वू हाईथो ने चीन के चार प्रस्ताव का परिचय किया। पहला, संबंधित पक्षों को संवाद और बातचीत बनाए रखना चाहिये। संबंधित पक्षों को राजनीतिक रास्तों के ज़रिये क्षेत्रीय मुद्दों का समाधान करना चाहिये। दूसरा, संबंधित पक्षों को समन्वय और सहयोग को मजबूत करना चाहिये। तीसरा, संबंधित पक्षों को व्यापक उपाय उठाना चाहिये। चौथा, संबंधित पक्षों को सतत विकास को बढ़ाना चाहिये।

वू ने कहा कि सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य देश के रूप में चीन उद्देश्य और निष्पक्ष रुख को श्रद्धा के साथ कार्यान्वित करता है। इसके साथ-साथ चीन मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका मुद्दे को हल करने पर रचनात्मक भूमिका निभाता है। दुनिया के सबसे बड़ा विकासशील देश के रूप में चीन “एक पट्टी एक मार्ग” प्रस्ताव के जरिये मध्य-पूर्व और उत्तरी अफ्रीका के संबंधित देशों से व्यावहारिक सहयोग को मजबूत करना चाहता है। इसीलिये वे क्षेत्रीय विकास और समृद्धि पूरा करने का योगदान करेंगे।(हैया)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी