व्यापारिक आतंकवाद के बुरे नतीजे दिखने लगे हैं अमेरिका में

2018-06-27 17:03:59

हालांकि चीन, यूरोपीय संघ और कनाडा आदि देशों ने अमेरिका द्वारा छेड़े गये व्यापारिक युद्ध पर कई बार चेतावनी दी और जोर दिया कि व्यापारिक युद्ध का कोई विजेता नहीं है। फिर भी व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने इसे नजरअंदाज किया, यहां तक कि हाल में मेड इन अमेरिका को भी नुकसान पहुंचा।

सौ वर्ष का इतिहास होने वाले अमेरिकी मोटरसाइकिल निर्माता हार्ले डेविडसन कंपनी ने 25 जून को घोषणा की कि वह अपने मोटरसाइकिल के कुछ उत्पादन विदेशों में स्थानांतरित करेगी, ताकि अमेरिका के प्रति यूरोपीय संघ के जवाबी टैरिफ़ से बचा सके। उस दिन अमेरिका पाँच विज्ञान व तकनीक के दिग्गज फेसबुक, अमेजॉन, एपल, नेटफ्लिक्स और गूगल एल्फाबेट के बाजार मूल्य ने 80 अरब अमेरिकी डॉलर वाष्पित किया।

इधर के दो दिनों में पूरी दुनिया राष्ट्रपति ट्रम्प का गुस्सा महसूस कर सकती है। उन्होंने क्रमशः ट्विटर पर बयान जारी कर हार्ले डेविडसन कंपनी की निंदा की और धमकी दी कि अमेरिका इस कंपनी पर भारी कर वसूली लगाएगा।

ट्रम्प की नज़र में यह कंपनी मेड इन अमेरिका का श्रेष्ठ प्रतिनिधि है। व्हाइट हाउस ने व्यापारिक साझेदारी पर टैरिफ बढ़ाने का मकसद इस कंपनी जैसे अमेरिकी अद्यमों की रक्षा करना है। ताकि वे लोग और ज्यादा उत्पादन लाईनों, पूंजी और रोजगार के मौके को अमेरिका में वापस बुलाएं। लेकिन अब हार्ले डेविडसन कंपनी की कार्यवाई ट्रम्प के इरादे के विरोध में है।

हार्ले डेविडसन कंपनी के इस केस ने अनुमान लगाया कि ट्रम्प सरकार की आर्थिक और व्यापारिक नीति विफलता का संकेत दिखा रही है और सिलसिलेवार प्रतिक्रियाएं भी लाऐंगी। हाल में अमेरिका के ऊर्जा, कृषि और निर्माण उद्योग बहुत परेशान हैं। यूरोपीय संघ, चीन, भारत, तुर्की और मैक्सिको आदि ज्यादा से ज्यादा देशों ने अमेरिका के उत्पादों पर जवाबी टैरिफ लगाने लगे हैं। व्हाइट हाउस संभवतः और ज्यादा अमेरिकी उद्यमों के विदेशों में जाने को देखेगा। निसंदेह व्यापारिक आतंकवाद से सर्वप्रथम अमेरिकी उद्यमों को नतीजे भुगतने होंगे।

हाल में अमेरिका ने टैरिफ बढ़ाने के हथकंडों से विश्व में अन्य देशों पर दबाव डालता रहा है और व्यापारिक आतंकवाद चला रहा है। जिस ने वैश्विक पूंजी, रोजगार, बाजार और उपभोग आदि पर भारी असर डाला है।

हाल में आईएमएफ़ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लगार्ड और विश्व व्यापार संघ के महानिदेशक एवीड ने फिर एक बार यह चेतावनी दी कि व्यापारिक युद्ध में कोई विजेता नहीं होगा। यूरोपीय संघ, भारत, तुर्की, मैक्सिको और चीन आदि ज्यादा से ज्यादा देशों के जवाबी कदम उठाने से अमेरिका सरकार को जरूर अपनी कार्यवाई द्वारा पैदा नुकसान झेलना होगा।

(श्याओयांग)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी