व्हाइट हाउस में ट्रेड वॉर मचाने वाले तीन पात्र

2018-07-06 16:33:05

पेइचिंग समयानुसार 6 जुलाई की दोपहर अमेरिका ने चीन की 34 अरब अमेरिकी डॉलर लागत वाली वस्तुओं पर अतिरिक्त टैक्स लागू कर दिया, इससे ट्रेड वॉर छिड़ गया है।

युद्ध में लिप्त दोनों पक्षों को कीमत चुकानी पड़ेगी। चीन ट्रेड वॉर नहीं चाहता ,क्योंकि चीन को पता है कि ट्रेड वॉर में कोई विजेता नहीं होगा। लेकिन अमेरिका में तीन पात्र ऐसा नहीं सोचते। उनके दिल में अमेरिका का प्रभुत्व ,व्यक्तिगत सुपर पावर और निजी लाभ पूरा करना अमेरिकी उद्यमों और जनता के विरोध, पूरे विश्व की जनता के कल्याण से अधिक अहम है।

व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति ट्रंप ,व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइज़र और राष्ट्रीय व्यापार समिति के प्रमुख पीटर नावारो हार्डलाइन के तीन प्रतिनिधि हैं ,जो व्हाइट हाउस के लौही ट्राइएंगल गठित हैं। वे टैरिफ़ लगाने से अपने व्यापारी साथियों के साथ ट्रेड वॉर मचा रहे हैं। चीन उनका मुख्य निशाना है।

राष्ट्रपति चुनाव के समय ट्रंप ने नारोदिज्म का ताश खेलकर चीन को निशाना बनाया और दावा किया कि चीन ने अमेरिकियों का काम लूट लिया है। राष्ट्रपति बनने के बाद उनको वायदा निभाना है। इसलिए चीन उनके हमले का मुख्य निशाना बना है।

रॉबर्ट लाइटहाइज़र अमेरिकी 301 जांच के मुख्य डिज़ाइनर हैं। चीन अमेरिका व्यापार वाद-विवाद पैदा होने के बाद वे हमेशा अग्रिम मोर्चे पर बने हैं और चीन पर दबाव डालकर चीन के विकास का रास्ता बदलने की कुचेष्टा कर रहे हैं।

वर्ष 2018 के पहले नावारो कभी भी चीन नहीं आया था, लेकिन वे लंबे समय तक तथाकथित चीनी खतरे में संलग्न रहते थे और चीन को काल्पनिक दुश्मन बनाने वाली कई पुस्तकें लिखीं।

दो सौ से अधिक साल में अमेरिका में प्रचलित मुक्त व्यापार और खुले समाज का सिद्धांत ट्रंप प्रशासन ने पलटा है। व्हाईट हाउस का लौही ट्राइएंगल अमेरिकी परंपरागत मूल्यदर्शन ताक पर रख रहा है। अमेरिका अलगाववाद और बंद समाज की ओर गिर रहा है। कुछ लोगों का कहना है कि अमेरिका का पतन शुरू हो चुका है।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी