अमेरिका द्वारा ट्रेड वॉर छेड़ने से संरक्षणवादी लक्ष्य पूरा नहीं होगा

2018-07-07 15:32:01

अमेरिका ने 6 जुलाई को चीन से आने वाली 34 अरब अमेरिकी डॉलर की वस्तुओं पर 25 प्रतिशत अतिरिक्त टैरिफ लगा दिया। चीनी विशेषज्ञों के विचार में अमेरिका का जीर्ण-शीर्ण टैरिफ़ उपकरण का प्रयोग एकदम व्यापारिक प्रभुत्ववाद है। लेकिन फिर भी चीन का आर्थिक विकास लगातार स्वस्थ तरीके से आगे बढ़ता रहेगा।

चीनी अंतरराष्ट्रीय आर्थिक मेलजोल केंद्र के प्रमुख अध्ययनकर्ता च्यांग येनशंग ने बताया कि अमेरिकी उद्यम विश्व मूल्य श्रृंखला के ऊपरी स्तर पर स्थित है ।अमेरिका ट्रेड वॉर से अमेरिकी उद्यमों को फिर अमेरिका वापस लौटने के लिए मजबूर कर रहा है। वह वैश्वीकरण से पीछे हट रहा है, जो विफल होगा।

चीनी समग्र अर्थव्यवस्था अनुसंधान अकादमी के उपाध्यक्ष बी चीयो ने बताया कि अल्पकाल के दृष्टिकोण से देखा जाए तो अमेरिका द्वारा चीन से आयातित 34 अरब अमेरिकी डॉलर वाली वस्तुओं पर टैरिफ़ लगाने से चीन के वैदेशिक निर्यात और आर्थिक वृद्धि पर अधिक प्रभाव नहीं पड़ेगा। इने गिने उद्यमों को कुछ नुकसान होगा, लेकिन किसी भी व्यवसाय पर महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं पड़ेगा। इसके अलावा इधर कुछ साल चीन की आर्थिक वृद्धि मुख्य तौर पर घरेलू मांग पर निर्भर रहती है।

बी चीयो के विचार में सुधार और खुलेपन के चालीस वर्षों के तेज़ विकास से चीन अब विश्व का दूसरा आर्थिक समुदाय बन चुका है। चीन का विशाल घरेलू बाजार है, जो अमेरिका के बराबर है। चीन का व्यावसायिक ढांचा निरंतर सुधर रहा है। इसके अलावा चीन का उद्योगीकरण और शहरीकरण आधे रास्ते पर चल रहा है, जिसके विकास की बड़ी संभावनाएं हैं। चीन को अमेरिकी व्यापारिक प्रभुत्ववाद हराने का पक्का विश्वास है।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी