पोम्पेओ के साथ हुई वार्ता के फल के प्रति चिंतित : उ. कोरिया

2018-07-08 16:31:59

उत्तर कोरियाई विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 7 जुलाई को कहा कि अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ की उत्तर कोरिया की यात्रा के दौरान दोनों पक्षों के बीच उच्च स्तरीय वार्ता हुई। अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप में गैर-नाभिकीकरण, युद्ध समाप्ति का घोषणा-पत्र आदि मुद्दे पर रुख जताया, इसके प्रति उत्तर कोरिया को खेद है और वार्ता के फल के प्रति चिंतित है। वहीं अमेरिका ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच मूल मुद्दों में प्रगति हासिल हुई।

इस प्रवक्ता के अनुसार, मौजूदा उच्च स्तरीय वार्ता में उत्तर कोरिया ने अमेरिका के साथ कुछ मुद्दों पर विचार विमर्श करने और कार्रवाई उठाने का सुझाव पेश किया, जिनमें उत्तर कोरिया-अमेरिका संबंध में सुधार के लिए आदान प्रदान की मजबूती, इस वर्ष में युद्ध समाप्ति घोषणा-पत्र जारी करना, महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल के हाई पावर इंजन के परीक्षण केंद्र को रद्द करना, उत्तर कोरिया में अमेरिकी सैनिकों के अवशेषों की खोज शीघ्र ही करना आदि शामिल हैं। लेकिन अमेरिका ने केवल एकतरफा गैर-नाभिकीकरण वाली मांग पेश की, और कोरियाई प्रायद्वीप की शांति व्यवस्था पर कोई बात नहीं की। इसके साथ ही उसने युद्ध समाप्ति घोषणा पत्र वाले मुद्दे पर तरह-तरह के बहाने से लम्बा किया।

लेकिन अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा जारी खबर के अनुसार 7 जुलाई को पोम्पेओ ने प्योंगयांग से प्रस्थान होते समय मीडिया से कहा कि उन्होंने उत्तर कोरियाई अधिकारियों के साथ कारगर वार्ता की। सभी मूल मुद्दों में प्रगति हासिल हुई। कुछ ही मुद्दों पर दोनों पक्षों के बीच बड़ी प्रगति प्राप्त हुई और अन्य कुछ मुद्दों पर अधिक कार्य करना बाकी है।

पोम्पेओ के अनुसार, अमेरिका और उत्तर कोरिया ने फैसला किया कि 12 जुलाई को पोन्मुन्जोम में उत्तर कोरिया में अमेरिकी सैनिकों के अवशेषों की वापसी वाले मुद्दे पर विचार विमर्श किया जाएगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी