चीन के सोयाबीन बाजार में सप्लाई की गारंटी उपलब्ध है

2018-07-12 16:02:06

अमेरिका विश्व में दूसरा बड़ा सोयाबीन निर्यातक है, जबकि चीन विश्व में सबसे बड़ा सोयाबीन आयात देश है। व्यापार युद्ध से विश्व में सोयाबीन की आपूर्ति पर प्रभाव पड़ेगा। पर चीनी अनाज और तेल उद्योग के विशेषज्ञों और संगठनों ने कहा कि कर वसुलने से चीनी बाजार में अमेरिकी सोयाबीन की प्रतिस्पर्धा नहीं होगी। लेकिन चीन दूसरे देशों से सोयाबीन का आयात कर सकेगा।

वर्ष 2017 से 2018 तक अमेरिका की सोयाबीन निर्यात मात्रा विश्व का 37 प्रतिशत भाग रहा। चीन ने विश्व में 60 प्रतिशत सोयाबीन का आयात किया है। चीन राष्ट्रीय अनाज और तेल सूचना केंद्र के विशेषज्ञ वांग ल्याओ वेई ने कहा कि कर वसुलने से अमेरिकी सोयाबीन की चीन के बाजार में प्रतिस्पर्द्धा नहीं होगी। अगर चीन सोयाबीन का कम आयात करे तो विश्व सोयाबीन बाजार पर प्रभाव पड़ेगा। चीन ब्राजील, अर्जेंटीणा जैसे देशों की तरफ रूख करेगा। विश्व में सोयाबीन व्यापार का संतुलन भी पुनःस्थापित किया जाएगा।

चीनी अनाज समूह के प्रधान यू शू पो ने कहा कि विश्व बाजार में सोयाबीन तेल की पर्याप्त सप्लाई की जा रही है। विश्व में सब्जी के तेल की व्यापार मात्रा आठ करोड़ टन तक जा पहुंची है। सोयाबीन तेल के अभाव को दूसरे किस्म वाले तेल की आपूर्ति से पूरक किया जा सकेगा। चीनी अनाज समूह विश्व के पचास देशों व क्षेत्रों में अनाज व तेल का आयात करता है। उसने दक्षिणी अमेरिका, कनाडा और काला सागर क्षेत्र के व्यापारियों के साथ घनिष्ठ संपर्क किया है। सोयाबीन की आपूर्ति के प्रति कोई चिन्ता नहीं है।

विशेषज्ञों का कहना है कि चीन घरेलू सोयाबीन की उत्पादन मात्रा बढ़ाने आदि के माध्यम से सोयाबीन की आपूर्ति की गारंटी करेगा और एक दो सालों के भीतर ही चीनी बाजार में अमेरिकी सोयाबीन हट जाने के अभाव को दूर किया जाएगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी