वर्ष 2018 की पहली छमाही में सशस्त्र संघर्षों से 5 हजार से अधिक नागरिकों की हताहती हुई :यूएन

2018-07-16 15:02:59

वर्ष 2018 जनवरी से जून तक सभी सशस्त्र संघर्षों और हिंसक घटनाओं से अफगानिस्तान में महिलाओं और बच्चों समेत 5122 नागरिकों की हताहती हुई। इनमें से 1692 लोगों की मौत हो गई, जबकि 3430 लोग घोयल हुए। अफगानिस्तान में स्थिति संयुक्त राष्ट्र की सहायता मंडल ने 15 जुलाई को इस बात की नवीनतम रिपोर्ट जारी की।

इस रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में मृतकों की कुल संख्या में 1 प्रतिशत की वृद्धि हुई। वर्ष 2009 से यह अफगानिस्तान में स्थित संयुक्त राष्ट्र के सहायता मंडल की मुलाकात की पहली छमाही के लिए उच्चतम सांख्यिकी बनी है। साथ ही पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में इस छमाही में घायल लोगों की कुल संख्या 5 प्रतिशत कम हुई है।

रिपोर्ट में पता चला है कि इस 29 प्रतिशत हताहती जमीनी सशस्त्र संघर्षों में हुई है, जबकि 28 प्रतिशत आत्मघाती हमलों के कारण हुई। इसके अलावा हवाई हमले, तात्कालिक विस्फोटक उपकरण, युद्ध के विस्फोटक अवशेष और फिक्स्ड पॉइंट हटाने की कार्रवाई आदि में अफगान नागरिकों की हताहती के मुख्य कारण हैं। सभी सशस्त्र संघर्षों और हिंसक घटनाओं में सबसे अधिक प्रभावित 5 प्रांत काबुल प्रांत, नंगारहर प्रांत, फरेब प्रांत, हेलमंड प्रांत और कंधार प्रभावित प्रांत काबुल, नांगरहार, फ़रयाब, हेलमंद और कांधार हैं

अफगानिस्तान में स्थिति संयुक्त राष्ट्र की सहायता मंडल ने अपील की कि अफगानिस्तान में संघर्ष संबंधी सभी पक्षों को नागरिकों की रक्षा करना और शांति सर्वसम्मति जल्दी बनाकर संयुक्त प्रयास करना चाहिये।(हैया)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी