अगर अमेरिका ने प्रभुत्ववाद और एकतरफावाद नहीं छोड़ा तो अमेरिका-रूस संबंध अच्छे नहीं होंगे

2018-07-18 12:32:01

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 16 जुलाई को हेलसिंकी में पहली औपचारिक बैठक की ।दोनों पक्षों ने फिनलैंड के राष्ट्रपति भवन में कई घंटे की बंद द्वार भेंटवार्ता करने के बाद बताया कि यह बैठक रचनात्मक रही । लगाताकर संबंधों का बिगड़ना दोनों देशों के हित में नहीं है। लेकिन क्या एक बार शिखर बैठक से न्यूनतम स्तर पर गिरे अमेरिका रूस संबंध अच्छे बनाये जा सकेंगे ?

ट्रंप-पुतिन शिखर बैठक में कोरियाई प्रायद्वीप के नाभिकीय निरस्त्रीकरण, आतंकवाद के विरोध, व्यापार और पूंजी निवेश, ईरान और सीरिया के सवाल समेत व्यापक मुद्दों पर चर्चा की गयी। द्विपक्षीय संबंधों में मौजूद लगभग सभी महत्वपूर्ण सवालों पर रायशुमारी की गई।

वास्तव में अमेरिका रूस संबंध बहुत जटिल हैं। कई मतभेदों को दो वर्गों में बांटा जा सकता है। पहला, हित से जुड़े टकराव। दूसरा ,दर्शनमूल्य का टकराव ।पहला टकराव सलाह मशविरे और पारस्परिक रियायत से सुलझाया जा सकता है, लेकिन दूसरा टकराव कम समय में हल नहीं किया जा सकता ।

सीरिया सवाल पर रूस और अमेरिका का प्रत्यक्ष मुकाबला है ।लेकिन दोनों पक्षों को वार्ता से एक दूसरे के रुख को समंवित करने की संभावना है और पारस्परिक रियायत से मतभेद कम करने की आशा है। वर्तमान में सीरिया सरकार मज़बूत होने की स्थिति में ट्रंप द्वारा सीरिया सरकार को मान्यता देने की संभावना ठुकरायी नहीं जा सकती।

यूक्रेन सवाल पर दोनों पक्षों के बीच रियायत होने का कोई आसार नजर नहीं आए। क्रिमीया वापस लेना रूस के लिए अपने हितों की सुरक्षा करने का अंतिम मोर्चा है, जबकि अमेरिका के विचार में यह अतिक्रमण है और पूरे यूरोप की सुरक्षा को इससे गंभीर खतरा है।

वास्तव में पारस्परिक अविश्वास अमेरिका रूस संबंधों की मुख्य धारा है। शीत युद्ध के अंत से अब तक रूस को दबाना हर अमेरिकी सरकार की नीति बनी रही है।

अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के बारे में रूस विश्व के बहुध्रुवीकरण का समर्थन करता है ,जबकि अमेरिका विश्व के प्रभुत्व का स्थान नहीं छोड़ना चाहता। आर्थिक क्षेत्र में रूस मुक्त व्यापार और बहुपक्षवाद का पक्षधर है ,जबकि अमेरिका ट्रेड वॉर छेड़ता है।

वर्तमान स्थिति में अगर अमेरिका ने प्रभुत्ववाद और एकतरफावाद नहीं छोड़ा तो अमेरिका-रूस संबंध अच्छे नहीं होंगे।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी