ब्रिक्स विकास पर औद्योगिक और वाणिज्यिक जगतों के व्यक्ति आशावान

2018-07-26 11:32:00

10वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन दक्षिण अफ्रीका के जोहानसबर्ग में आयोजित हो रहा है। जाहिर है कि ब्रिक्स सहयोग व्यवस्था दूसरे“स्वर्णिम दशक”में प्रवेश कर रहा है। 25 जुलाई को ब्रिक्स बिज़नेस फोरम का आयोजन हुआ। ब्रिक्स देशों के औद्योगिक और वाणिज्यिक जगतों के प्रतिनिधियों ने पिछले दस सालों में ब्रिक्स व्यवस्था के विकास में प्राप्त उपलब्धियों का सिंहावलोकन किया और वे अगले स्वर्णिम दशक के प्रति आशावान हैं।

दक्षिण अफ्रीका की अयस्क निर्यात कंपनी के उच्च अधिकारी थैबांग मोलेटे ने कहा कि ब्रिक्स व्यवस्था के तहत लोगों की आवाजाही और आपस में सूचना के उपभोग में बड़ी सुविधा मिली है। उन्हें इससे भी बड़ा लाभ मिला है। ब्रिक्स देशों के बीच दूसरे दशक सहयोग के प्रति वे प्रतिक्षा करते हैं। उन्हें आशा है कि ब्रिक्स सहयोग से ज्यादा बिज़नेस के मौके मिलेंगे। वे चीन, भारत और रूस के साझेदारियों के साथ सहयोग करने की प्रतिक्षा में हैं।

वहीं, फेडरेशन ऑफ इंडियन चेंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फ़िक्की) के अफ्रीकी मामले पर जिम्मेदार व्यक्ति सुस्नाटो सन के विचार में पिछले दस सालों में ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग की सबसे बड़ी श्रेष्ठता यह है कि ब्रिक्स सदस्यों के बीच तालमेल लगातार मजबूत हो रहा है। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स व्यवस्था वर्तमान अंतरराष्ट्रपित स्थिति में सुधार है, जो कि नवोदित आर्थिक समुदाय वाले देशों के बीच सहयोग ही नहीं, इसे दुनिया को लाभ पहुंचाने वाला प्रयास भी माना जा सकता है। ब्रिक्स देश बहुत एकजुट हैं और वे इस नवोदित आर्थिक समुदाय वाले संगठन की पूर्ण भूमिका निभाने में सक्रिय हैं। इस व्यवस्था से ब्रिक्स देशों के बीच, ब्रिक्स देशों और दूसरे देशों के बीच सहयोग को बड़े हद तक आगे बढ़ाया गया है। पिछले 10 सालों में ब्रिक्स देशों के बीच सहयोग का दायरा और गहराई लगातार विस्तृत हुई है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी