केंद्र के जांच दल ने टीका स्कैंडल की जांच पड़ताल शुरू की, डब्ल्यूएचओ से मिली प्रशंसा

2018-07-26 11:33:01

चीनी राज्य परिषद के जांच दल ने 23 जुलाई को छांगछ्वेन शहर की छांगशेंग जैव प्रौद्योगिकी लिमिटेड कंपनी के टीका स्कैंडल की जांच पड़ताल शुरू की। इससे पहले सरकार ने स्कैंडल में लिप्त सभी टीकाओं को बर्खास्त किया और इस कंपनी के टीका उत्पादन को बन्द किया। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 25 जुलाई को एक वक्तव्य जारी कर चीन सरकार के कदम की प्रशंसा की। और कहा कि घटना खेदजनक तो है, लेकिन आकस्मिक निरीक्षण से यह जाहिर है कि निगरानी संस्था की प्रणाली से जनता के स्वास्थ्य की गारंटी की जा सकती है।

इससे पहले चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने घटना की जांच करने और जिम्मेदारना व्यक्तियों को दंडित करने का आदेश दिया। केंद्र सरकार के विन्यास से जांच दल मुख्य तौर पर संबंधित कारोबार के अवैध कार्यवाहियों की पूर्ण रूप से जांच करेगा, घटना में लिप्त कारोबार और व्यक्तियों को गंभीरता से दंडित करवाएगा, सरकार में कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी की जांच करेगा, नुकसान की भारपाई करेगा और समाज की चिन्ता के प्रति उचित रूप से अनुवर्ती समस्याओं का निपटारा करेगा। इस बीच, राज्य खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने भी देश के सभी टीका उत्पादकों के उत्पादन कार्यक्रम की जांच करना शुरू किया है। ताकि जनता के स्वास्थ्य की गारंटी की जाए। वर्ष 2018 के जुलाई में राष्ट्रीय औषधि प्रशासन ने इस स्कैंडल को बर्खास्त किया कि छांगछ्वेन शहर की छांगशेंग जैव प्रौद्योगिकी लिमिटेड कंपनी ने रेबीज टीका के उत्पादन रिकॉर्ड में धोखाधड़ी की।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 25 जुलाई को एक वक्तव्य जारी कर कहा कि वह जांच के परीणाम का इंतजार कर रहा है। और वह चीन के स्वास्थ्य विभाग की सहायता में कदम उठाने को तैयार है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि चीन ने टीकाकरण योजना के विस्तार में उल्लेखनीय प्रगतियां हासिल की हैं और टीका लगाने के जरिये बच्चों में पोलियो, खसरा, मम्प्स, रूबेला, हेपेटाइटिस जैसी बिमारियों की रोकथाम में सफलता हासिल की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन के टीका उत्पादकों को विश्व मानक तक पहुंचाने के लिए सहायता दी है।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी