इंडो-प्रशांत क्षेत्र में 11.3 करोड़ अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगा अमेरिका

2018-07-31 17:01:56

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने 30 जुलाई को घोषणा की कि तथाकथित इंडो-प्रशांत रणनीति के हिस्से के रूप में अमेरिकी सरकार हिंद महासागर और प्रशांत महासागर क्षेत्र में 11.3 करोड़ अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगी, जो डिजिटल अर्थव्यवस्था, बुनियादी ढांचे और ऊर्जा से जुड़ी परियोजनाओं में इस्तेमाल किया जाएगा।

माइक पोम्पिओ ने उसी दिन अमेरिकी चेम्बर ऑफ कॉमर्स के इंडो-प्रशांत व्यापार फोरम में भाषण दिया। उन्होंने कहा कि अमेरिकी सरकार इंडो-प्रशांत क्षेत्र में 11.3 करोड़ अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगी, जिनमें से डिजिटल अर्थव्यवस्था के विकास के लिए 2.5 करोड़, ऊर्जा परियोजनाओं में 5 करोड़ और बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए 3 करोड़ का उपयोग किया जाएगा।

अमेरिकी चेम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष और सीईओ थॉमस जे डोनोह्यू ने चेम्बर ऑफ कॉमर्स के वेबसाइट के जरिए एक लेख प्रकाशित किया। इस लेख में कहा गया है कि दस सालों में इंडो-प्रशांत की कुल आर्थिक मात्रा वैश्विक अर्थव्यवस्था का आधा हिस्सा होगी। और इस क्षमता को रिलीज़ करने के लिए इस क्षेत्र में करीब 260 खरब अमेरिकी डॉलर के निवेश की जरूरत है।

हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अमेरिका के ट्रांस प्रशांत भागीदारी समझौते से निकलने से इंडो-प्रशांत देश असंतुष्ट हुए। पोम्पिओ ने 1 से 5 अगस्त तक अपनी मलेशिया, सिंगापुर और इंडोनेशिया की यात्रा की घोषणा भी की।

(नीलम)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी