भारतीयों ने मनाया स्वतंत्रता दिवस, मोदी ने लाल किले से गिनाई सरकार की उपलब्धियां

2018-08-15 17:32:02

दुनिया भर में भारत का 72वां स्वतंत्रता दिवस बड़े धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर करोड़ों लोग आजादी के पर्व के जश्न में शामिल हुए। इस खास अवसर पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में लाल किले की प्राचीर से पांचवी बार देश को संबोधित किया। बुधवार को 82 मिनट लंबे भाषण में मोदी ने दावा किया कि उनकी सरकार की प्राथमिकता सभी देशवासियों को आवास, बिजली,संचार व्यव्स्था, स्किल और शौचालय उपलब्ध कराने की है।

प्रधानमंत्री मोदी के इस लोकलुभावन भाषण को अगले साल होने वाले आम चुनावों के मद्देनजर दिया गया भाषण बताया जा रहा है। इसके साथ ही यह अगले संसदीय चुनाव से पहले स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मोदी का अंतिम भाषण भी था।

अपने लंबे भाषण में प्रधानमंत्री ने दावा किया कि उनकी सरकार के पिछले चार वर्षों के शासन के दौरान कई चीजों में बदलाव आया है, जो कि पिछले 70 साल में नहीं हो सका था। उनकी सरकार द्वारा पिछले साल लागू किए गए वस्तु और और सेवा कर यानी जीएसटी की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा कि यह बड़ी सफलता है। जिससे देश में टैक्स बेस के दायरे का विस्तार हुआ है।

उन्होंने कहा कि 2013 तक भारत में कुल 40 मिलयन नागरिक ही प्रत्यक्ष करदाता थे। लेकिन पिछले चार वर्षों के दौरान यह आंकड़ा 67 मिलयन तक पहुंच गया। वहीं चार साल पहले तक अप्रत्यक्ष करदाताओं की संख्या महज 7 मिलयन थी, जो अब बढ़कर 11 मिलयन हो चुकी है।

इतना ही नहीं मोदी ने कहा कि जब से उनकी सरकार सत्ता में आयी है, वैश्विक स्तर पर भारत की स्थिति में भी बदलाव आया है। अब भारत विदेशी निवेश का एक प्रमुख गंतव्य स्थल बन चुका है। साथ ही आयुष्मान भारत योजना के जरिए 50 मिलयन नागरिक गरीबी रेखा से बाहर आ चुके हैं। इसके अलावा उनकी सरकार भ्रष्ट्राचार पर लगाम कसने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। बकौल मोदी, हमने 60 मिलयन संदिग्ध व्यक्तियों को सरकारी योजनाओं का बेजा लाभ नहीं उठाने दिया है।

जबकि उनकी सरकार ने देश के हर गांव में बिजली मुहैया कराने के साथ-साथ आप्टिकल फाइबर कनेक्शन भी प्रदान किए हैं। गत् चार वर्षों में जितने गैस कनेक्शन लोगों को बांटे गए हैं, उतना करने में सौ साल लग जाते।

अपने भाषण में मोदी ने महिला, सामाजिक सुरक्षा, किसान, गरीब, सैनिकों और छोटे व्यापारियों से जुड़े मुद्दों पर भी बात की।

यही नहीं स्टार्ट-अप्स को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने 130 मिलयन लोन युवाओं को दिए गए हैं। जिनमें से 40 मिलयन पहली लोन लेने वाले थे। यह इस बात को दर्शाता है कि इंडिया कितना बदल गया है।

अनिल आजाद पांडेय

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी