स्वतंत्रा दिवस के भाषण में मोदी ने आम चुनाव की तैयारी की

2018-08-20 13:32:01

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में स्वतंत्रा दिवस के अवसर पर भाषण देकर अपनी सरकार की उपलब्धियों और भावी विकास कार्यक्रम के बारे में बताया। गौरतलब है कि भारत में आम चुनाव अगले साल की शुरूआत में आयोजित होगा। भारत में आर्थिक चुनौतियों और विपक्षी पार्टी की शक्ति के बढ़ने को मद्देनजर मोदी ने इस भाषण से जनता का समर्थन पाने की कोशिश की।

अपने भाषण में मोदी ने उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद प्राप्त उपलब्धियों का दावा किया। उन्होंने जोर दिया कि सामाजिक न्यायता को सुनिश्चित करना भारत के तेज़ विकास की आवश्यक शर्त है। साथ ही उन्होंने महिलाओं के अधिकारों, सामाजिक गारंटी और स्टार्ट-अप इंडिया आदि का वचन दिया। साथ ही मोदी ने कहा कि भारत ने 2022 में पहली बार समानव आंतरिक्ष उड़ान मिशन पूरा करेगा।

नोटबंदी (डीमोनटाईजेशन) अभियान में मोदी और उनके नेतृत्व वाली भाजपा को भी बड़ा लाभ मिला है। इस अभियान ने मोदी सरकार के सुधार और भ्रष्टाचार विरोधी संकल्प दिखाया है और भ्रष्टाचार विरोधी कार्य में कुछ भूमिका भी अदा की है। इसलिए इसे अधिकांश जनता का समर्थन मिला है।

2014 में मोदी के सत्ता पर आने के बाद उन के नेतृत्व वाली भाजपा निरंतर मजबूत हुई है। लेकिन भाजपा विपक्षी पार्टी की प्रबल चुनौतियों व यथार्थ मुसीबतों का सामना भी कर रही है। अगले साल के आम चुनाव में यदि मोदी और भाजपा 2014 के आम चुनाव की तर्ज पर जीत करना चाहती है, तो यह आसान बात नहीं होगी।

इस साल में भारत में मुद्रास्फीति, तेल की कीमतें और विनिमय दर में परिवर्तन आदि अनेक तत्वों से भारतीय रिजर्व बैंक ने दोबारा ब्याज दरें बढ़ायी, जिस से भारतीय अर्थतंत्र के भविष्य पर लोगों की चिंता पैदा हुई है।

भारतीय मोतिलर ओसवल फाइनेंशियल सर्विस इंडिया के अनुमान के मुताबिक दोबारा ब्याज दर बढ़ने से भारतीय आर्थिक वृद्धि दर पर असर पड़ेगा। इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही(अप्रैल से जून तक) भारत में जीडीपी की वृद्धि दर 7.5-8 के बीच रही, लेकिन दूसरी तिमाही में वृद्धि दर में कटौती आएगी। भारत में आर्थिक ढांचागत गतिरोध हल करना अब भी मुश्किल रहा है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी