हिंद महासागर के देश सूनामी की पूर्व चेतावनी व्यवस्था का संयुक्त परिक्षण करेंगे

2018-09-04 10:34:00

संयुक्त राष्ट्र युनेस्को ने 3 सितंबर को विज्ञप्ति जारी कर कहा कि हिंद महासागर के 20 से अधिक समुद्र तटीय देश 4 से 5 सितंबर तक सूनामी का मुकाबला करने के लिए अहम अभ्यास करेंगे।“2018 हिंद महासागर की लहरें”शीर्षक इस अभ्यास का उद्देश्य सूनामी की पूर्व चेतावनी व्यवस्था और नागरिकों के निकासी प्रोग्राम का परीक्षण करना है।

विज्ञप्ति के मुताबिक, अभ्यास दो भागों में बंटा हुआ है। 4 सितंबर को ईरान के दक्षिणी समुद्री तट पर रिक्टर पैमाने पर 9 तीव्रता के भूकंप का अनुकरण किया जाएगा, जबकि 5 सितंबर को इंडोनेशिया के सुमात्रा द्वीप के उत्तरी समुद्री तट पर 9.3 तीव्रता वाले भूकंप का अनुकरण किया जाएगा। अभ्यास के माध्यम से सूनामी के मुकाबले में भागीदारी देशों का परिचालन प्रोग्राम, विभिन्न पक्षों के बीच संपर्क, नागरिकों की तैयारी और निकासी प्रोग्राम का परीक्षण किया जाएगा।

भारत, दक्षिण अफ्रीका, कोमोरोस, इंडोनेशिया, ईरान, सेशेल्स आदि देशों के समुद्र तटीय क्षेत्रों में सुरक्षित स्थान पर पहुंचने का अभ्यास किया जाएगा, जिसमें करीब 80 हज़ार लोग भाग लेंगे।

गौरतलब है कि दिसम्बर 2004 में, इंडोनेशिया के आचे क्षेत्र में रिक्टर पैमाने पर 7.9 तीव्रता का भूकंप आया और हिंद महासागर में सूनामी आयी। इस आपदा में 2 लाख लोगों की मौत हो गई और 5 लाख लोग बेघर हुए। इसके बाद हिंद महासागर के देशों ने सूनामी की पूर्व चेतावनी और आपदा से निपटने के लिए सरकारों के बीच समन्वय दल की स्थापना की, जिसका प्रबंधन संयुक्त राष्ट्र युनेस्को के अधीन सरकारों के बीच ओशनोग्राफी समिति को सौंपा गया।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी