फूड प्रोसेसिंग में झारखंड को तकनीकी मदद देगा चीन

2018-09-04 20:04:00

फूड प्रोसेसिंग में झारखंड को तकनीकी मदद देगा चीन

झारखंड में प्राकृतिक संसाधनों की कमी नहीं है। साथ ही कृषि उपज के मामले में भी झारखंड का प्रमुख स्थान है। बस कमी है तो आधुनिक तकनीक की। चीन ने इन क्षेत्रों में झारखंड को तकनीक से लेस करने के लिए मदद का आश्वासन दिया है। चीन दौरे पर आए झारखंड के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता रघुवर दास ने एक ख़ास इंटरव्यू में सीआरआई को बताया कि चीन सरकार के प्रतिनिधियों ने झारखंड में फ़ूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में तकनीकी सहायता मुहैया कराने का भरोसा दिलाया है।

इसके अलावा झारखंड में नवंबर में होने वाले ग्लोबल फ़ूड प्रोसेसिंग फ़ेयर में चीन को कंट्री पार्ट्नर बनाया जाएगा। पेइचिंग से पहले शांगहाई गए मुख्यमंत्री और उनके सहयोगियों ने वहां की आधुनिकता को नज़दीक से देखा। शांगहाई टावर की तर्ज़ पर झारखंड की राजधानी रांची में भी एक टावर का निर्माण किया जाएगा। इसका उद्देश्य अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करना है। इतना ही नहीं झारखंड सरकार चीनी और दूसरे देशों के बौद्ध पर्यटकों को लुभाने के लिए इटखोरी में विशाल बौद्ध स्तूप बनाने जा रही है। यह स्थल बोधगया से मात्र 60 किमी दूर है। लेकिन अब तक टूरिस्ट बोधगया से आगे नहीं जाते थे। स्तूप बन जाने के बाद लोग इटखोरी जाकर बौद्ध स्तूप और बौद्ध धर्म व महात्मा बुद्ध के बारे में गहरी जानकारी हासिल कर पाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड की ग्रोथ रेट 8.2 प्रतिशत है, जो कि गुजरात के बाद देश का दूसरा राज्य है, जिसकी आर्थिक दर इतनी अधिक है। झारखंड में विकास की तमाम संभावनाएं हैं, इसके लिए उन्होंने अधिक से अधिक चीनी कंपनियों को अपने राज्य में आने का न्योता भी दिया। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार के पास पर्याप्त जमीन है, ऐसे में किसी प्लांट या कंपनी की स्थापना के लिए कोई दिक्कत नहीं आएगी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री और उनके साथ आया दल बुधवार को हनान प्रांत के चंगचो जाकर फूड प्रोसेसिंग प्लांट्स और तकनीक की विस्तृत जानकारी प्राप्त करेगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी