चीन-अफ्रीका सहयोग मंच का पेइचिंग शिखर सम्मेलन समाप्त

2018-09-05 10:34:01

चीन-अफ्रीका सहयोग मंच पेइचिंग शिखर सम्मेलन 4 सितंबर को समाप्त हुआ। सम्मेलन की समाप्ति पर जारी दो दस्तावेज़ यानी पेइचिंग घोषणा तथा पेइचिंग कार्यवाही योजना में चीन और अफ्रीका की विश्व मामलों पर सहमति, और चीन-अफ्रीका सहयोग से समान भाग्य वाले समुदाय की स्थापना करने की कल्पना जाहिर है।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति रामाफोसा ने नेताओं की गोलमेज सभा की अध्यक्षता की और दो दस्तावेज़ संपन्न किये। सभा की समाप्ति पर आयोजित एक न्यूज़ ब्रिफिंग में शी चिनफिंग ने कहा कि वर्तमान में दुनिया अभूतपूर्व परिवर्तन से गुजर रही है। विश्व मल्टीपालाइजेशन और आर्थिक वैश्वीकरण के चलने के साथ-साथ विश्व जनता का भाग्य जोड़ा गया है। साथ ही विश्व के सामने अनिश्चितता समेत अनेक चुनौतियां मौजूद हैं। इसी स्थिति में चीन और अफ्रीका का समान विचार है कि उन्हें घनिष्ठ समान भाग्य वाले समुदाय की स्थापना करना चाहिये।

वर्तमान शिखर सम्मेलन में 53 अफ्रीकी देशों के नेताओं या प्रतिनिधियों ने भाग लिया है। यह वर्ष 2006 के पेइचिंग सम्मेलन और वर्ष 2015 के जोहान्सबर्ग सम्मेलन के बाद आयोजित तीसरा शिखर सम्मेलन है। शी चिनफिंग ने कहा कि चीन अफ्रीका के साथ पूर्ण रूप से रणनीतिक साझेदारी को नये स्तर पर पहुंचाने के लिए तैयार है। और चीन अफ्रीका के साथ उभय जीत व समान विकास के रास्ते पर अभियान चलाना चाहता है। उन्होंने कहा कि चीन व अफ्रीका के नेताओं ने शिखर सम्मेलन में समान महत्वपूर्ण सवालों पर सहमतियां संपन्न की हैं। हमें पेइचिंग शिखर सम्मेलन के परीणाम का कार्यांवयन करना चाहिये और दोनों पक्षों की जनता को कल्याण पहुंचाना चाहिये।

रामाफोसा ने अपने भाषण में कहा कि चीन-अफ्रीका सहयोग मंच दोनों पक्षों के लिए विकास कार्यक्रम को बढाने का एक मंच है। अफ्रीका चीन के साथ रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने और समान भाग्य वाले समुदाय का निर्माण करने को तैयार है। हम एक पट्टी एक मार्ग पहल का समर्थन करते हैं। हमें आशा है कि इस मौके पर अफ्रीकी महाद्वीप में आगे सुधार किया जाएगा और अफ्रीका चीन द्वारा बुनियादी ढांचा निर्माण, औद्योगिकीकरण, समुद्री अर्थव्यवस्था, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, स्वास्थ्य, शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण के संदर्भ में दी गयी सहायता के प्रति आभार जताता है।

दूसरे अफ्रीकी नेताओं ने कहा कि उन्हें चीन-अफ्रीकी सहयोग योजना के कार्यांवयन पर संतोष है। चीन हमेशा से अफ्रीका का समर्थन करता रहा है और अफ्रीका के अन्दरूनी मामलों में कभी भी हस्तक्षेप नहीं करता है। अफ्रीका और चीन के बीच सहयोग करने से विकासमान देशों की भूमिका व प्रभाव को मजबूत किया जाएगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी