टिप्पणी :बहुपक्षवाद बढ़ाने में यूरोप को चीन के साथ आगे बढ़ने की ज़रूरत

2018-09-05 17:32:02

फ्रांसीसी राष्ट्रपति माकरोन ने इस अगस्त के अंत में आयोजित विदेशों में स्थित फ्रांसीसी राजूदत सम्मेलन में भाषण देकर बहुपक्षवाद बढ़ाने की अपील की ।लगता है कि फ्रांस यूरोपीय संघ को लेकर वर्तमान नकारात्मक स्थिति से निकलने की कोशिश कर रहा है ।विश्लेषकों के विचार में अगर फ्रांस समेत यूरोपीय संघ सममुच बहुपक्षवाद बढ़ाना चाहता है, तो उसे चीन के साथ आगे बढ़ने की जरूरत है।

माकरोन ने इस सम्मेलन में बताया कि अंतरराष्ट्रीय बहुपक्षवाद और यूरोपीय संघ का विकास अब अभूतपूर्व संकट का सामना कर रहा है। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की एकतरफावादी कार्रवाई की पुरज़ोर तरीके से आलोचना की ।उन्होंने बहुपक्षवाद में चीन की सक्रिय भागीदारी का सकारात्मक मूल्यांकन किया ,लेकिन कयास लगाया कि बहुपक्षवाद पर चीन का अपना विचार भी है ।विश्व प्रशासन की चर्चा में माकरोन ने कहा कि एक पट्टी एक मार्ग के प्रस्ताव को कुछ क्षेत्र स्थिर करने के लाभ और वैश्विक दृष्टि है। फ्रांस संतुलन के अनुसरण ,अपने हितों और विश्वदर्शन की सुरक्षा पर कायम रहकर चीन क साथ रचनात्मक ,मांगों से भरा और विश्वास भरा वार्तालाप करेगा ।उन्होंने यूरोपीय संघ के एकीकरण के विकास को दोहराया ।

माकरोन की हालिया श्रृंखलात्मक कूटनीतिक कार्रवाईयां एकतरफावाद के विरोध और यूरोपीय एकीकरण के लिए सकारात्मक महत्व रखती है ।लेकिन विश्लेषकों के विचार में उसका व्यावहारिक परिणाम आशावान नहीं है ।माकरोन ने यूरोपीय संघ के पुनरुत्थान की योजना पेश की है, लेकिन इसे व्यापक समर्थन नहीं मिला ।इसके अलावा माकरोन को बहुपक्षवाद बढ़ाने की मुख्य शक्ति चीन के प्रति पक्षपात और शंका भी है ।उसके राजनयिक विचार में समावेश की कमी है।

ज़ाहिर है कि नकारात्मक स्थिति को छोड़ने के लिए बहुपक्षवाद बढ़ाने का महत्व फ्रांस और यूरोपीय संघ की कूटनीति में बढ़ रहा है ।चीन और यूरोप अंतरराष्ट्रीय बहुपक्षवादी व्यवस्था और न्यायपूर्ण नियमों की सुरक्षा के लिए सहयोग मज़बूत कर रहे हैं ताकि अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के बेहतर विकास के लिए योगदान दिया जाए। इस मद्देनज़र से चीन और यूरोपीय संघ को पारस्परिक विश्वास और समझ मज़बूत कर एक साथ आगे बढ़ने की आवश्यकता है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी