कोरियाई प्रायद्वीप का परमाणु मुक्त होने पर उ. कोरिया की दृढ़ इच्छा की पुनः अपील की किम जोंग-उन ने

2018-09-06 19:04:00

5 सितंबर को उत्तर कोरिया की यात्रा करने वाले दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के विशेष प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात के दौरान उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन ने कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु मुक्त होने पर उत्तर कोरिया की दृढ़ इच्छा की पुनः अपील की। उन्होंने दक्षिण कोरिया से इस सितंबर प्योंगयांग में आयोजित दक्षिण-उत्तर कोरिया शिखर मुलाकात की संबंधित अनुसूची और विषयों की आम सहमति बनाई।

कोरियाई सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने 6 सितंबर को रिपोर्ट जारी की कि दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के विशेष प्रतिनिधि मंडल से मुलाकात करते समय किम जोंग-उन ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप पर सशस्त्र संघर्ष के खतरों और युद्ध के डर का पूर्ण समाधान करके इस प्रायद्वीप में परमाणु हथियारों और परमाणु खतरों के बिना शांति स्थल बनना उत्तर कोरिया का दृढ़ स्थल और उसकी स्वयं की इच्छा है। उन्होंने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप का परमाणु मुक्त होने के लिये उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया दोनों पक्षों को पहले से और सक्रिय प्रयास करना चाहिये।

किम जोंग-उन ने प्रतिनिध मंडल से इस सितंबर प्योंगयांग में आयोजित दक्षिण-उत्तर कोरिया शिखर मुलाकात की संबंधित अनुसूची और विषयों पर चर्चा किया और आम सहमति की।

रिपोर्ट में पता चला है कि प्रतिनिधि मंडल ने दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जेए-इन के व्यक्तिगत पत्र को किम जोंग-उन के हाथों में सौंपा गया। इस पत्र में मून जेए-इन ने दोनों पक्षों के बीच संबंध के दृढ़ विकास का संकल्प प्रकट किया। किम ने इस बात का “पूर्ण समर्थन और सहमति” जताई। उन्होंने मून इतिहास में उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच पहले बार की शिखर मुलाकात के योगदान का अत्यधिक मूल्यांकन और धन्यवाद किया।

किम ने कहा कि पानमुनजोम में उत्तर-दक्षिण कोरिया शिखर भेंट के बाद दोनों पक्षों ने अधिक क्षेत्रों में संपर्क किया। उन्होंने उत्तर-दक्षिण कोरिया के तितर-बितर होने वाले परिवारों की मुलाकात को पूरा किया। उत्तर-दक्षिण कोरिया की सैन्य वार्ता और संयुक्त संपर्क कार्यालय की स्थापना प्रक्रिया काफी साफ़ है। इस बात की उन्हें काफी खुशी हुई।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी