पेइचिंग शिखर सम्मेलन से चीन-अफ्रीका सहयोग नए दौर में प्रवेश किया- फ्रांसीसी विद्वान

2018-09-07 11:05:01

3 से 4 सितंबर तक चीन-अफ्रीका सहयोग मंच का पेइचिंग शिखर सम्मेलन आयोजित हुआ, जिस पर न केवल चीनी और अफ्रीकी विद्वानों, बल्कि पश्चिमी देशों के विद्वानों का ध्यान भी केंद्रित हुआ। पेरिस के मशहूर अंतरराष्ट्रीय संबंध के विद्वान प्रोफेसर बेर्ट्रांड बलदी ने सीआरआई संवाददाता को दिए एक खास इन्टरव्यू में कहा कि पेइचिंग शिखर सम्मेलन से जाहिर है कि चीन-अफ्रीका सहयोग एक नए दौर में प्रवेश कर चुका है।

प्रोफेसर बलदी कभी कभार निमंत्रण पर चीन के छिंगह्वा विश्वविद्यालय जैसी यूनिवर्सिटियों में अकादमिक आदान-प्रदान करने के लिए आते हैं। इसके साथ ही वे कभी-कभी अफ्रीका की यात्रा भी करते हैं। चीन के विकास, अफ्रीका के विकास और चीन-अफ्रीका सहयोग के बारे में उनका अपना अनुभव है। उनके विचार में पेइचिंग शिखर सम्मेलन में चीन-अफ्रीका सहयोग के लिए“आठ कार्रवाइयां”पेश की गईं, जिनमें औद्योगिक संवर्धन, संस्थापनों के संपर्क, व्यापारिक सुविधा, हरित विकास, क्षमता का निर्माण, स्वास्थ्य स्वच्छता, मानविकी आदान प्रदान और शांति सुरक्षा शामिल हैं, यह अफ्रीका के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

प्रोफेसर बलदी ने कहा कि चीन-अफ्रीका सहयोग मंच ने स्थापना के बाद से लेकर अब तक पिछले 18 सालों में शानदार उपलब्धियां हासिल कीं। भविष्य में चीन और सक्रिय रवैये से अंतरराष्ट्रीय संगठनों की गतिविधियों में भाग ले सकेगा और बहुपक्षवाद का और अच्छी तरह रक्षा कर सकेगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी