शी चिनफिंग ने चौथे पूर्वी आर्थिक मंच में भाषण दिया

2018-09-12 19:41:00

चौथे पूर्वी आर्थिक मंच 12 सितम्बर को रूस के व्लादिवोस्तोक में आयोजित हुआ। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, मंगोलियाई राष्ट्रपति खाल्तमा बाटूल्गा, जापानी प्रधानमंत्री शिन्जो आबे और दक्षिण कोरियाई प्रधानमंत्री ली नाक-योन ने इस में भाग लिया। शी चिनफिंग ने मंच में भाषण देते हुए कहा कि चीन क्षेत्रीय देशों के साथ मिलकर क्षेत्रीय शांति, अमन-चैन को बनाए रखना, विभिन्न देशों में आपसी लाभ और अभय जीत को साकार करना, जनता के बीच पारंपरिक मैत्री को मजबूत करना, बहुमुखी समन्वयक विकास को बखूबी अंजाम देना और क्षेत्रीय शांति, स्थिरता, विकास और समृद्धि को आगे बढ़ाना चाहता है।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन हमेशा से रूस के सुदूर पूर्व सहयोग का सक्रिय समर्थक और भागीदार है। दोनों पक्षों के बीच सहयोग का खास भौगोलिक फायदा उपलब्ध है, इसके साथ ही राजनीतिक आधार मजबूत है और नीति व व्यवस्था की गारंटी भी जबरदस्त है। इधर के सालों में चीन और रूस के बीच सुदूर पूर्व सहयोग में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल हुईं। इस वर्ष और अगले वर्ष चीन और रूस के बीच स्थानीय सहयोग आदान-प्रदान वर्ष हैं, जिससे दोनों पक्षों के सुदूर पूर्व सहयोग के लिए और विशाल गुंजाइश मुहैया करवायी गयी है। चीन रूस के साथ मिल कर आधारभूत संस्थापन के निर्माण, ऊर्जा, कृषि, पर्यटन आदि महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत करना चाहता है।

शी चिनफिंग ने यह भी कहा कि वर्तमान नई परिस्थिति में संबंधित पक्षों को क्षेत्रीय शांति, स्थिरता, विकास और समृद्धि का संवर्धन करना चाहिए। उन्होंने बल देते हुए कहा कि एक सामंजस्य, आपसी विश्वास, एकता और स्थिरता वाला उत्तर-पूर्वी एशिया न केवल विभिन्न देशों के हितों से मेल खाता है, बल्कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आशा भी है, जो कि बहुपक्षवाद की रक्षा करने, अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति को और न्यायिक व उचित दिशा की ओर आगे बढ़ाने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसी क्षेत्र के एक सदस्य के रूप में चीन लगातार प्रयास करने को तैयार है।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी