अमेरिका का नये चरण का टैरिफ़ लगाना एकतरफावाद और प्रभुतत्ववाद पूर्ण रूप से अभिव्यक्त करता है :चीन के पूर्व उप वित्तमंत्री

2018-09-19 11:38:11

अमेरिका ने देश विदेश के विरोध को नजरअंदाज कर 24 सितंबर से चीन से आयातित 2 खरब अमेरिकी डॉलर वाले उत्पादों पर और 10 प्रतिशत टैरिफ़ लगाने की घोषणा की। यह व्यवहार एकतरफावाद और आधिपत्यवाद को पूर्ण रूप से अभिव्यक्त करता है। बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में चीन-अमेरिका-यूरोप आर्थिक और व्यापार संबंध संगोष्ठी में भाग लेने वाले चीन के पूर्व उप वित्त मंत्री ज़ू हुआंगयाओ ने 18 सितंबर को यह बात कही।

ज़ू हुआंगयाओ ने कहा कि वर्तमान में विश्व अर्थव्यवस्था बेहतर दिशा में विकसित हो रही है। लेकिन एकतरफावाद, व्यापार संरक्षणवाद और लोकलुभावनवाद विश्व अर्थव्यवस्था की विकास क्षमता का नुकासान करते हैं। साथ ही वे अमेरिका की विकास क्षमता का नुकासान भी हैं। पिछली शताब्दी के बीस और तीस वाले दशक में व्यापार संरक्षणवाद, लोकलुभावनवाद और सैन्यवाद के कारण द्वितीय विश्व युद्ध छिड़ा और पूरी दुनिया में इस बात से पीड़ित हुई।

उन्होंने बल देतु हुए कहा कि चीन विश्व अर्थव्यवस्था तंत्र और सारे समकालीन अंतरराष्ट्रीय प्रणाली का हिस्सेदार, निर्माणकर्ता, रक्षक और योगदानकर्ता है। विश्व व्यापार संगठन, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक समेत सभी अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संगठनों में चीन महत्वपूर्ण सक्रिय भूमिका निभाता है। चीन का योगदान नये सिरे से करने के बजाय मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक तंत्र को सुधारना है। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद अमेरिका के नेतृत्व में अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक तंत्र स्थापति हुआ। लेकिन वर्तमान में अमेरिका मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक तंत्र का सबसे बड़ा नुकसान करता है।(हैया)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी