टिप्पणीः धुर दक्षिण पंथी विचारधारा बढ़ने के कारण स्वीडन में “यूटोपिया” की तरह फिर से बनना काफी मुश्किल

2018-09-26 19:10:00

स्वीडन के संसद ने 25 सितंबर को अविश्वास प्रस्ताव पर वोट डाला। स्वीडन के मौजूदा प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन के प्रति संसद के अधिकांश सदस्यों ने विरोध में मत दिया। इसीलिये स्टीफन लोफवेन को प्रधानमंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया गया। क्योंकि पहले आयोजित संसद के चुनाव में स्वीडन के वामपक्षी पार्टियों और मध्य-दक्षिणपंथी पार्टियों को 50 प्रतिशत से अधिक वोट मिले नहीं थे। काफी संभव है कि स्वीडन के नये संसद में प्रवासी विरोधी धुर दक्षिण पंथी पार्ट संतुलन की भूमिका निभाएगी। स्वीडन राजनीतिक क्षेत्र में “दक्षिणपंथ की ओर बढ़ने” की संभावना में वृद्धि होगी।

पहले अपने उच्च कल्याण, सुरक्षा, समावेश और खुलेपन के कारण स्वीडन को “यूटोपिया” की तरह समझा जाता है। लेकिन पिछले कुछ साल में स्वीडन को लेकर एक के बाद एक नकारात्मक समाचार सुनाई दिए।

धुर दक्षिण पंथी विचारधारा बढ़ने के साथ-साथ स्वीडन में सामाजिक सुरक्षा परिस्थिति बदतर होती जा रही है। स्वीडिश पुलिस के अनुसार वर्ष 2017 में पूरे स्वीडन में बंदूक से गोलीबारी की घटनाओं की कुल संख्या 320 तक जा पहुंची।

पिछले कुछ सालों में स्वीडन में सामाजिक सुरक्षा परिस्थिति बदतर होने का कारण केवल शरणार्थी समस्या ही नहीं हैं।

वर्ष 2009 में यूरोपीय वित्तीय संकट होने के बाद स्वीडन की अर्थव्यवस्था को आघात पहुंचा। समाज में असंतोष की भावना बढ़ी। इसीलिये स्वीडन में लोक लुभावनवाद के फैलाव के लिए “उपजाऊ भूमि” मिली।

लोगों को उम्मीद है कि स्वीडन की नयी सरकार सामाजिक कल्याण और शरणार्थी मुद्दों को हल करेगी। इसके अलावा उन्हें आशा है कि स्वीडन में लोक लुभावनवादी और धुर दक्षिण पंथी राजनीतिज्ञ और मीडिया अभिमानी, पक्षपात और अहंकार की भावना छोड़कर शरणार्थियों और विदेशी पर्यटकों के प्रति “उदार हृदय, सहिष्णु, समानता और बहुभिन्नरूपी” होने वाली बुद्धिसंगत फिर से जगा सकेंगे।(हैया)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी