अमेरिका स्थित चीनी राजदूत ने अमेरिकी मीडिया को दिया इंटरव्यू

2018-10-05 16:43:00

अमेरिका स्थित चीनी राजदूत त्स्वे थिएन खाई ने 3 अक्तूबर को अमेरिकी नेशनल पब्लिक रेडियो(एनपीआर) को दिए इंटरव्यू में चीन-अमेरिका संबंधों, व्यापारिक विवाद, कोरिया प्रायद्वीप में परमाणु हथियार, दक्षिण चीन सागर और चीन के प्रभाव आदि सवालों के जवाब दिए।

चीनी राजदूत त्स्वे थिएन खाई ने कहा कि चीन अमेरिका के साथ व्यापार संघर्ष करने के बजाये वार्ता से सवालों का समाधान करना चाहता है। लेकिन वार्ता की सफलता दोनों पक्षों की सद्भावना और ईमानदारी पर निर्भर है। पर अमेरिका की ईमानदारी काफी नहीं है। चीन कुछ रियायत देकर अमेरिका के साथ समझौता संपन्न करने को तैयार है। लेकिन दोनों पक्षों की सद्भावना चाहिये।

चीनी राजूदत ने कहा कि किसी भी दो देशों के बीच प्रतिस्पर्द्धा मौजूद है, पर चीन और अमेरिका के बीच सहयोग करने की जरूरत है। आज दुनिया में कोई ऐसा देश नहीं है जो अकेले सभी चुनौतियों का समाधान करने में सक्षम हो। चीन मतभेद मौजूद रहने के बावजूद अमेरिका के साथ सहयोग करने को तैयार है।

चीनी राजदूत ने कहा कि चीन को दक्षिण चीन सागर के द्वीप समूह तथा इन के नजदीक समुद्र के प्रति अखंडनीय प्रभुसत्ता प्राप्त है। द्वितीय विश्वयुद्ध की समाप्ति पर चीन सरकार ने अमेरिकी नौसेना की मदद से जापान द्वारा अधिकृत इन द्वीपों को वापस लिया। हम दूसरे देशों के साथ वार्ता के माध्यम से विवादों का समाधान करने को तैयार हैं। इस के साथ ही हम इस सागर में स्थिरता बनाये रखना चाहते हैं। चीन और आसियान देशों के बीच दक्षिण चीन सागर आचार संहिता यानी सीओसी की स्थापना की जा रही है। अभी तक सीओसी वार्ता में उल्लेखनीय प्रगतियां हासिल होने लगी है। आशा है कि अमेरिका इस का समर्थन करेगा और इसे नष्ट नहीं करेगा।

कोरिया प्रायद्वीप में परमाणु हथियारों के सवाल पर चीनी राजदूत ने कहा कि चीन का इस सवाल पर सतत रुख है। चीन कोरिया प्रायद्वीप के परमाणु मुक्त होने का पक्षधर है और चीन प्रायद्वीप की शांति और स्थिरता पर कायम है। यह सौभाग्यवश है कि अमेरिका और डीपीआरके के बीच वार्ता को प्रगति हासिल हुई है। चीन अमेरिका और डीपीआरके के बीच परमाणु मुक्ति के लिए आगे वार्ता का समर्थन करता है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी