रक्षा, ऊर्जा, व्यापार संबंधों में सहयोग को बढ़ावा देते हुए भारत और रूस

2018-10-08 16:47:01

भारत और रूस के बीच दो दिवसीय वार्षिक शिखर सम्मेलन शुक्रवार को भारत की राजधानी दिल्ली में समाप्त हुआ, जिसमें दोनों पक्षों ने औपचारिक रूप से 5 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक मूल्य की एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली के लिए खरीद समझौते पर हस्ताक्षर किए।

इसके अलावा, दोनों देशों ने आठ समझौतों और समझौते के ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए, साथ ही ऊर्जा, एयरोस्पेस, रेलवे, अर्थव्यवस्था, व्यापार और कृषि के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत करने के लिए सहमति जतायी।

समझौतों पर हस्ताक्षर करने के समारोह के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सदैव बदलती दुनिया में, भारत-रूस द्विपक्षीय संबंध अधिक महत्वपूर्ण हो गए थे।

भारत और रूस के नेताओं का शिखर सम्मेलन दोनों देशों के बीच उच्चतम वार्ता है। यह साल 2000 में शुरू हुआ और दोनों देशों के बीच घूर्णन में हुआ। साल 2010 में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा के दौरान, दोनों देशों के बीच संबंध "रणनीतिक साझेदारी" से "असाधारण रणनीतिक साझेदारी" में अपग्रेड किया गया था।

इस साल यह शिखर सम्मेलन मोदी और पुतिन के बीच तीसरी बैठक भी थी। गत मई में दोनों शीर्ष नेताओं ने रूसी शहर सोची में एक अनौपचारिक शिखर सम्मेलन का आयोजन किया।

अमेरिका की चेतावनी के बावजूद अमेरिका के प्रतिकूल अधिनियम (सीएएटीएसए) के माध्यम से अमेरिका के प्रतिद्वंद्वियों का हवाला देते हुए, भारत और रूस ने एस-400 वायु रक्षा मिसाइल सिस्टम सौदे पर हस्ताक्षर किए जो पुतिन की भारत यात्रा का सर्वोच्च बिंदु बना रहा।

समझौते के मुताबिक, भारत रूस से 5.43 अरब अमेरिकी डॉलर के मूल्य के एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्टम खरीदेगा, जिसे साल 2020 के अंत तक भारत को सौंप दिया जाएगा।

एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली रूसी वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली की चौथी पीढ़ी से संबंधित है, जो 400 किमी दूर मिसाइलों और विमानों को मार सकती है, और एस-400 रडार प्रणाली 600 किमी से अधिक के लक्ष्यों का पता लगा सकती है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी