टिप्पणीः खुद के राष्ट्रीय निर्माण में लगे अमेरिका

2018-10-17 17:12:01

टिप्पणीः खुद के राष्ट्रीय निर्माण में लगे अमेरिका

हाल में अमेरिकी उप राष्ट्रपति बर्न्स ने चीन की देश विदेश नीति की निंदा करने वाला भाषण जारी किया। उनका भाषण सुनकर हमें दस साल पहले अमेरिकी लेखक थॉमस फ्राइडमैन द्वारा न्यूयार्क टाइम्स पर प्रकाशित किए गए एक समीक्षा की याद आती है।

उस समय थॉमस फ्राइडमैन पेइचिंग ओलंपिक के समापन समारोह में बैठे हुए चीनी कलाकारों का प्रदर्शन देख रहे थे। वे अपनी आंतरिक उत्तेजना को नहीं रोक सके और महान सात वर्ष नामक यह समीक्षा लिखी। उन्होंने ध्यान दिया कि जुलाई 2001 में पेइचिंग को 29वें ग्रीष्मकालीन ओलंपिक के आयोजन का अधिकार मिला। करीब दो महीने बाद अमेरिका को 9/11 आतंकी हमले का सामना करना पड़ा। इस के बाद चीन और अमेरिका दोनों देश पूरी तरह अलग-अलग रास्ते पर चलने लगे।

फ्राइडमैन ने कहा कि जब चीनी लोग ओलंपिक की तैयारी में जुटे थे, हम अमेरिकी अलकायदा पर प्रहार करने में व्यस्त थे। जब चीनी लोग और बेहतर व्यायामशाला, मेट्रो, हवाई अड्डों और फुटबाल मैदानों का निर्माण कर रहे थे, हम अमेरिकी और बेहतर धातु डिटेक्टरों, हथियारों और मानव रहित डिटेक्टरों का निर्माण कर रहे थे। उनका मानना था कि आगामी सात सालों में अमेरिका को खुद के राष्ट्रीय निर्माण में लगना चाहिए।

लेकिन खेद की बात है कि दस साल बीत चुके हैं। जब चीन सुधार व खुलेपन की झंडा ऊंचा उठाकर विश्व के विभिन्न देशों के साथ व्यापक विचार-विमर्श, साझा सहयोग और सहभागी लाभ वाले मानव साझे भाग्य वाले समुदाय के निर्माण के रास्ते पर चल रहा है। उस समय अमेरिका अब भी बर्बादी के रास्ते पर चल रहा है।

बीते कई सालों में हालांकि ओबामा सरकार ने अफगानिस्तान और इराक में दो युद्धों को समाप्त करने की घोषणा की, फिर अमेरिका सीरिया और लीबिया में फंस गया। अमेरिका ने देश के 60 प्रतिशत सैन्य जहाजों को प्रशांत सागर में स्थानांतरित किया, जिस से प्रशांत सागर में बड़ी लहरें छिड़ीं।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी