चीनी पीएम:मिलकर वैश्विक कर्तव्य निभाकर वैश्विक चुनौतियों का सामना करें

2018-10-19 19:32:00

स्थानीय समयानुसार 19 अक्तूबर की सुबह चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने ब्रसेल्स में 12वें यूरेशियाई शिखर सम्मेलन में भाग लिया और मिलकर वैश्विक कर्तव्य निभाकर वैश्विक चुनौतियों का सामना करें नामक भाषण दीया।

अपने भाषण में ली खछ्यांग ने कहा कि वर्तमान दुनिया में अनिश्चितता का माहौल है। विश्व शांति व विकास को आगे बढ़ाने के लिए नये अवसर मौजूद हैं, लेकिन जोखिम की चुनौतियां अब भी मौजूद हैं। जटिल अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति के मद्देनजर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने मानव साझे भाग्य वाले समुदाय की रचना की विचारधारा प्रस्तुत की, जिसे अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की व्यापक मान्यता मिली है। विभिन्न देशों को वार्ता व सहयोग मजबूत कर शांति व स्थिरता की समान रक्षा करनी चाहिए और विश्व आर्थिक पुनरुत्थान की अच्छी प्रवृत्ति की रक्षा करनी चाहिए।

ली खछ्यांग ने बताया कि एशिया व यूरोप विश्व की दो बड़ी स्थिर शक्तियां हैं और विश्व के दो बड़े आर्थिक समुदाय भी हैं। नयी स्थिति की नयी चुनौतियों के सामने यूरेशियाई देशों को विश्व की शांति की रक्षा करने और समृद्धि व विकास को आगे बढ़ाने का अहम कर्तव्य निभाने की जरूरत है।

ली खछ्यांग ने कहा कि चीन एक विकासशील देश है। चीन में विकास के असंतुलन की समस्या मौजूद है। लेकिन विकास का घाटा विकास की निहित शक्ति भी है। चीन खुलेपन का और विस्तार करेगा, बौद्धिक संपदा के संरक्षण को मजबूत करेगा और अंतर्राष्ट्रीय समुन्नत व्यापारिक माहौल की तैयारी करेगा, ताकि यूरेशियाई जनता को और ज्यादा लाभ दे सके और विश्व की शांति व विकास के लिए और बड़ा योगदान प्रदान कर सके।

गौरतलब है कि वर्तमान यूरेशियाई देशों के शिखर सम्मेलन की थीम है साथ मिलकर वैश्विक चुनौतियों का सामना करें। 53 सदस्य देशों के नेताओं और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों ने सम्मेलन में हिस्सा लिया।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी