अमेरिका आईआरबीएम से निकलेगा, तो रूस ज़रूरी जवाब देगा :रूस

2018-10-23 13:04:00

अगर अमेरिका खुद ही मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल संधि (आईआरबीएम) को तोड़ता है, तो रूस सैन्य तकनीक और अन्य जरूरी तरीकों के ज़रिये जवाब देगा। रूसी विदेश मंत्रालय और राज्य डूमा ने 21 अक्तूबर को यह बात कही।

उस दिन रूस के उप विदेश मंत्री सेर्गेई रियबकोव ने कहा कि किसी प्रमाण के बिना अमेरिका ने रूस के आईआरबीएम का उल्लंघन करने की कई बार से निंदा की। अमेरिका के आईआरबीएम से छोड़ने की घोषणा का लक्ष्य रूस को सामरिक स्थिरता मुद्दों पर रियायत देने के लिये दबाव डालना है। अगर ईरान के परमाणु समझौता छोड़ने की तरह अमेरिका आईआरबीएम और अन्य अंतर्राष्ट्रीय समझौतों और संबंधित संधि तोड़ता है, तो रूस सैन्य तकनीक और अन्य जरूरी तरीकों के ज़रिये जवाब देगा। उम्मीद है कि 21 अक्तूबर को रूस की यात्रा करने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों पर अमेरिकी राष्ट्रपति के सहायक जॉन बोल्टन अमेरिका की राय और अगले कदम जैसी बातों की व्याख्या कर सकेंगे।

रूसी राज्य डूमा की अंतर्राष्ट्रीय मामला समिति के अध्यक्ष लियोनिद स्लट्स्की ने 21 अक्तूबर को कहा कि अमेरिका के आईआरबीएम को छोड़ने से परमाणु हथियार नियंत्रण संकट का सामना करेगा। साथ ही पूरी दुनिया सैन्य शस्त्रीकरण की होड़ का सामना करेगी। अगर अमेरिका इस संधि से पीछे हटता है, तो रूस स्वयं और अपने मित्र राष्ट्रों की रक्षा करने के लिये सभी जरूरी तरीकों और योग्यता से संपन्न है।(हैया)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी