रूसी विद्वान की नज़र में चीन के 40 साल

2018-10-23 13:07:00

इस वर्ष चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू किये जाने की 40वीं वर्षगांठ है। रूस के चीन मुद्दे के विशेषज्ञ, राष्ट्रीय शोध विश्वविद्यालय "अर्थशास्त्र के उच्च विद्यालय" के पूर्वी विद्या अनुसंधान विभाग के प्रधान एलेक्सी मास्लोव के विचार में पिछले 40 सालों में चीनी अर्थतंत्र और समाज में बड़ी कामयाबियां हासिल हुईं और चीन ने विश्व के विभिन्न देशों के आर्थिक विकास को भी आगे बढ़ाया। बड़े आर्थिक बदलाव होने के साथ इस देश में शिष्टाचार, ईमानदारी और देशभक्ति आदि चीनी राष्ट्रीय मूल संस्कृति में कोई परिवर्तन नहीं आया।

54 वर्षीय मास्लोव चीन से बहुत परिचित हैं, वे इतिहास विद्या के डॉक्टर और चीन-विद्या के प्रोफेसर भी हैं। लम्बे समय से वे चीनी अर्थतंत्र, राजनीति और संस्कृति आदि क्षेत्र का अनुसंधान करते आ रहे हैं। चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू किये जाने के बाद से लेकर अब तक पिछले 40 सालों में विकास में प्राप्त उपलब्धियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि सर्वप्रथम, चीन ने विश्व को साबित कर दिया है कि इतिहास के लम्बे समय में केवल 40 सालों के भीतर वह एक गरीब और पिछड़े देश से विश्व में दूसरा बड़ा आर्थिक समुदाय बन गया। यह दुनिया भर में अद्वितीय है। 40 सालों में चीन ने राजनीतिक स्थिरता और जातीय ऐतिहासिक मूल्य को बनाए रखने की पूर्वशर्त पर लगातार सुधार के माध्यम से देश में तेज़ सामाजिक आर्थिक विकास साकार किया। चीन की विविधतापूर्ण औद्योगिक व्यवस्था से खुद को, यहां तक कि दुनिया के विभिन्न देशों को उच्च गुणवत्ता वाली सस्ती वस्तुएं उपलब्ध करवायी। इससे आम नागरिकों के जीवन स्तर में उन्नति हुई। रूसी प्रोफेसर मास्लोव ने कहा:“चीन खुद के विकास की खोज करता है, इसके साथ ही उसने दक्षिण पूर्व एशियाई और मध्य एशियाई देशों, यहां तक कि पूरे विश्व के कई देशों को विकास का मौका प्रदान किया है। ये देश एक समान विकास के रास्ते पर आगे बढ़ते रहे हैं।”

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी