चीन और जापान का आर्थिक संबंध घनिष्ठ और अविभाजित : शिंजो आबे

2018-10-24 10:32:00

चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग के निमंत्रण पर जापानी प्रधानमंत्री शिन्जो आबे 25 से 27 अक्तूबर तक चीन की औपचारिक यात्रा करेंगे। चीन यात्रा से पहले आबे ने जापान में चीनी मीडिया को एक संयुक्त इन्टरव्यू दिया।

मौजूदा यात्रा दिसम्बर 2011 में तत्कालीन प्रधानमंत्री योशीहिको नोडा की चीन यात्रा के बाद सात सालों के बाद जापानी प्रधानमंत्री की पहली औपचारिक चीन यात्रा है। आबे ने आशा जतायी कि अपनी यात्रा के दौरान वे चीनी पक्ष के साथ चीन-जापान की शांतिपूर्ण मित्रवत संधि पर हस्ताक्षर की 40वीं वर्षगांठ मनाएंगे, राष्ट्रपति शी चिनफिंग और प्रधानमंत्री ली खछ्यांग के साथ क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर ईमानदारी से विचार विमर्श करेंगे, समान रूप से राजनीति, सुरक्षा गारंटी, अर्थतंत्र, संस्कृति और नागरिकों की आवाजाही आदि क्षेत्रों में सहयोग को आगे बढ़ाएंगे, ताकि चीन-जापान संबंध के विकास में और ज्यादा प्रगति हासिल हो सके। आबे ने कहा कि चीन और जापान को“रणनीतिक आपसी लाभ के संबंध”वाली विचारधारा के तहत मतभेदों का अच्छी तरह निपटारा करना चाहिए, स्थिरता के साथ मित्रवत सहयोगी संबंध का विकास करना चाहिए।

वर्तमान में चीन और जापान के बीच कुल व्यापार रकम करीब 3 खरब अमेरिकी डॉलर है, द्विपक्षीय आर्थिक संबंध बहुत घनिष्ठ है। आबे ने कहा कि चीन में जापानी उद्यमों के निवेश से बड़ी मात्रा में रोजगार के मौके मुहैया करवाये गये हैं। इसके साथ ही जापान को भी चीन के आर्थिक विकास से लाभ मिला है। बेशक, चीन के आर्थिक विकास जापान, यहां तक कि सारी दुनिया के लिए बड़ा मौका है। “प्रतिलोम वैश्वीकरण”और व्यापार संरक्षणवाद की चर्चा करते हुए आबे ने कहा कि मुक्त व्यापार और उचित नियम के आधार पर आर्थिक परिस्थिति बहुत सार्थक है। व्यापारिक प्रतिबंध कदम उठाने से किसी भी पक्ष को लाभ नहीं मिलेगा। मुक्त व्यापार व्यवस्था के सबसे बड़े लाभार्थी दो देश होने के नाते चीन और जापान को बहुपक्षीय मुक्त व्यापार व्यवस्था की मजबूती के लिए सहयोग करना चाहिए।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी