सैन्य संबंध चीन-अमेरिका संबंध का स्थिरक बने- चीन

2018-10-26 13:03:00

चीनी सेना राष्ट्रीय प्रभुसत्ता, सुरक्षा और विकास हितों की रक्षा करने का संकल्प अपरिवर्तनीय है। आशा है कि अमेरिका चीन के साथ एक ही दिशा की ओर आगे बढ़ेगा, ताकि दोनों देशों की सेनाओं का संबंध द्विपक्षीय संबंध का स्थिरक बन सके। चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वू छियान ने 25 अक्तूबर को पेइचिंग में आयोजित नियमित संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही।

उन्होंने कहा कि सैन्य संबंध चीन-अमेरिका संबंध का महत्वपूर्ण भाग है। स्वस्थ और स्थिर सैन्य संबंध का विकास करना दोनों पक्षों के समान हितों से मेल खाता है, जो कि दोनों देशों के समान प्रयासों की जरूरत है। चीन का हमेशा से विचार रहा है कि सहयोग और उभय जीत दोनों देशों के संबंध के स्थाई विकास का एकमात्र सही विकल्प है। समादर और समावेश द्विपक्षीय मतभेदों और अंतर्विरोध के समाधान का सही उपाय है। वर्तमान में चीनी और अमेरिकी सैन्य संबंध आम तौर पर स्थिर रहा है, लेकिन नकारात्मक तत्व भी कभी कभार उत्पन्न हुए हैं। थाईवान और दक्षिण चीन सागर जैसे मामलों में चीन का सैद्धांतिक रूख अविचल है। चीनी सेना राष्ट्रीय संप्रभुता, सुरक्षा और विकास हितों की रक्षा करना का संकल्प अपरिवर्तनीय है।

प्रवक्ता वू छियान ने जानकारी देते हुए कहा कि कुछ समय पूर्व चीनी और अमेरिकी रक्षा मंत्रियों ने सिंगापुर में सक्रिय और रचनात्मक वार्ता की। अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स नॉर्मन मैटिस ने एक बार फिर चीनी रक्षा मंत्री वेई फ़ंग-ह को अमेरिका की यात्रा करने के लिए आमंत्रित किया। दोनों देशों के रक्षा विभाग इस के संदर्भ में घनिष्ठ संपर्क और समन्वय कर रहे हैं। प्रवक्ता वू ने कहा कि चीन को आशा है कि अमेरिका चीन के साथ एक ही दिशा में आगे बढ़ेगा। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं द्वारा संपन्न आम सहमतियों का संजीदगी के साथ कार्यान्वयन करेगा, आपसी संपर्क, पारस्परिक विश्वास को आगे बढ़ाते हुए सहयोग मजबूत करेगा, जोखिम का प्रबंधन और नियंत्रण करेगा, ताकि चीनी और अमेरिकी सेनाओं के संबंध को आगे बढ़ाने वाला स्थिरक बनाया जा सके।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी