एक छोटे गांव में पूरा देश प्रतिबिंबित : शी चिनफिंग

2018-10-26 15:04:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने यह बताया कि मैंने ल्यांगच्याह गांव में अपने जीवन का प्रथम सबक सीखा। ल्यांग-च्या-ह, उत्तरी चीन के शानपेइ क्षेत्र में स्थित इस पहाड़ी गांव में शी चिनफिंग ने अपना युवा जीवन बीताया और यहां भी चीन के रुपांतर व खुलेपन का परिवर्तन प्रतिबिंबित है। वर्ष 2015 के सितंबर में राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अमेरिका की यात्रा करते समय मेजबानों को ल्यांगच्याह गांव की कहानी बतायी।

रुपांतर व खुलेपन के चालीस वर्षों में चीन में भारी परिवर्तन आया है। पर चालीस साल पहले चीन का लुक बिल्कुल अलग था। शी चिनफिंग ने वर्ष 2015 के सितंबर में वाशिंग्टन में आयोजित एक स्वागत रैली में कहा कि 1960 के दशक में मैंने राजधानी पेइचिंग में शानशी प्रांत के यैनआन शहर के ल्यांगच्याह गांव में खेती का काम करना शुरू किया और वहां सात साल बीताए। तब हम स्थानीय लोगों की तरह मिट्टी से बने मकान में रहते थे। स्थानीय लोग कई महीनों तक मांस नहीं खा पाते थे। उनका जीवन अत्यंत मुश्किल था। बाद में मैं इस गांव का मुखिया बना। लेकिन गांव वासियों को मांस खिलाने की मेरी उम्मीद को साकार करना मुश्किल था। इस वर्ष, मैं एक बार फिर ल्यांगच्याह गांव वापस गया। अब वहां की भी चौड़ी सड़कें निर्मित हैं, गांववासी भी ईंट से बने मकानों में रहते हैं। और उन्हें भी इंटरनेट, मूल पेंशन, चिकित्सा बीमा और बेसिक शिक्षा आदि प्राप्त हो चुकी हैं। मांस खाना तो आम बात हो गयी है। यह सबकुछ देख मुझे पता लगा है कि चीनी स्वप्न जनता का स्वप्न ही है। इसे चीनी जनता की सुन्दर जीवन की अभिलाषा के साथ जोड़ना होगा। ल्यांगच्याह गांव में जो परिवर्तन आया है, वह रुपांतर और खुलेपन से चीन की सामाजिक प्रगतियों का प्रतिबिंब है।

शी चिनफिंग ने यह भी बताया कि चीन फिर भी विश्व में सबसे बड़ा विकासमान देश ही है। चीनी जनता को सुन्दर जीवन का लक्ष्य साकार करने के लिए अथक प्रयास करना पड़ेगा। आर्थिक विकास चीन का प्रथम मिशन है। चीन की सत्तारूद्ध पार्टी को जन जीवन को उन्नत करने और कदम ब कदम समान समृद्धि को साकार करने का काम करना चाहिये।

  ( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी