टिप्पणी:सुधार की भावना से चीन का बड़ा चमत्कार करो

2018-10-26 19:02:02

चीन के सुधार और खुलेपन के 40वर्षों में चीनी अर्थव्यवस्था का आकार विश्व की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बना है और विनिर्माण उद्योग का आकार विश्व के पहले स्थान पर है। इस दौरान 70 करोड़ से अधिक लोगों को गरीबी के चंगुल से छुटकारा मिला। बहुत सारे पश्चिमी अध्ययनकर्ता इस कायापलट को चीनी कमाल कहते हैं। वर्तमान जटिल अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति और घरेलू विकास के अपडेट की चुनौती के समक्ष क्या चीन नया चमत्कार कर सकेगा?हाल ही में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने क्वांग तुंग प्रांत के निरीक्षण के दौरान जवाब दिया यानी चीनी सुधार और खुलापन कभी भी नहीं रुकेगा। चीन अधिक बड़ा चमत्कार करेगा, जिसे विश्व सम्मानपूर्ण दृष्टि से देखेगा।

शनछन चीनी सुधार और खुलेपन का परीक्षात्मक इलाका है और प्रारंभिक स्थल भी है। चालीस वर्षों में शनछन एक छोटे से मछुआरों के गांव से एक प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय शहर बन गया है। वर्ष 2017 में शनछन की जीड़ीपी 22 खरब 40 अरब युआन तक जा पहुंची और औसत सालाना वृद्धि दर 23 प्रतिशत रही। शनछन का दौरा करते समय शी चिनफिंग ने सुधार की गुणवत्ता और स्तर उन्नत करने की मांग की। उन्होंने बल देते हुए कहा कि क्वांग तुंग को पहलकदमी की भावना का प्रचार कर अपने लाभ के आधार पर सुधार और खुलेपन का झंडा अधिक बुलंद करना चाहिए। उन्होंने क्वांग तुंग से नयी स्थिति में अधिक ऊंचे स्तर और लक्ष्य पर सुधार और खुलेपन को बढ़ाने का अनुरोध किया।

पिछले कुछ साल विश्व आर्थिक वृद्धि में चीन के योगदान का अनुपात 30 प्रतिशत से अधिक रहा, जो विश्व आर्थिक वृद्धि और प्रशासन व्यवस्था के सुधार की एक महत्वपूर्ण शक्ति बनी हुई है। संपूर्ण सुधार और खुलेपन के साथ चीन निरंतर चमत्कार करता रहेगा। एक अधिक समृद्ध और खुला चीन न सिर्फ़ चीनी जनता को अधिक नये लाभ पहुंचाएगा, बल्कि पूरे विश्व के लिए अधिक बड़ा योगदान करेगा।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी