संघर्ष खुद ही सुख की बात हैः शी चिनफिंग

2018-10-30 16:06:01

संघर्ष खुद ही सुख की बात है। संघर्षशील जीवन ही सुखी जीवन माना जाता है। यह बात चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 2018 के फरवरी माह में वसंत त्योहार के एक सत्कार समारोह में कही। 2012 के बाद चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कई बार अपनी संघर्ष सुखी विचारधारा पर प्रकाश डाला। उन के विचार में सुख संघर्ष से हासिल किया जा सकता है।

2012 में सीपीसी की केंद्रीय कमेटी के महासचिव चुने जाने के बाद शी चिनफिंग ने अनेक बार ल्यांगचाहो की चर्चा की, जहां उन्होंने सात साल तक कठोर जीवन बिताया। उन्होंने कहा कि ल्यांगचाहो के सात सालों में उन्हें जनता की वास्तविक स्थितियों का पता लगा। वास्तव में ये सात साल शी चिनफिंग द्वारा ल्यांगचाहो की जनता के साथ संघर्ष करने के सात साल भी थे। उन्होंने विश्वास जताया कि जब तक करीब 1.3 अरब चीनी जनता हमेशा इस महान भावना का प्रसार करती रहेगी, तो हम अवश्य ही और सुन्दर जीवन के महान लक्ष्य को साकार कर सकेंगे।

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 19वीं कांग्रेस से अब तक संघर्ष शी चिनफिंग के भाषण में एक अहम शब्द बन चुका है। एक जाति के महान पुनरुत्थान के लिए सिर्फ एक व्यक्ति या कुछ व्यक्तियों के प्रयास पर्याप्त नहीं हैं, बल्कि करोड़ों सामान्य लोगों की भागीदारी की आवश्यकता है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कई बार सुख व संघर्ष के बीच संबंधों की चर्चा की। वे हरेक सामान्य आदमी को प्रेरणा देना चाहते हैं कि लोग महान युग की रचना करने के साथ साथ खुद के सुन्दर जीवन की रचना भी कर सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति का अपना सपना होता है, जबकि नया युग सपने को साकार करने का युग है। सपने को साकार करने के लिए हरेक व्यक्ति को संघर्ष करने की आवश्यक्ता है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी