“बेल्ट एंड रोड”का निर्माण बाज़ार और वाणिज्यिक सिद्धांत के अनुसार आगे बढ़ाया जा रहा है- चीन

2018-11-19 19:01:00

चीन द्वारा प्रस्तुत“बेल्ट एंड रोड”प्रस्ताव आपसी सम्मान, सहयोग और उभय जीत के आधार पर बाज़ार और वाणिज्यिक सिद्धांत के अनुसार है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता कंग श्वांग ने 19 नवम्बर को पेइचिंग में यह बात कही।

रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइकल पेंस ने हाल ही में एपेक के उद्योग और वाणिज्य शिखर सम्मेलन में भाषण देते हुए कहा था कि अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र में आधारभूत संस्थापन के विकास का समर्थन करेगा। उन्होंने 60 अरब डॉलर का संबंधित वित्त पोषण देने का वचन भी दिया, लेकिन अमेरिका अतिरिक्त शर्त वाला“बेल्ट”और एकतरफ़ा लाभ वाला“रोड”पेश नहीं करेगा। मीडिया के मुताबिक अमेरिका के उपरोक्त कथन चीन पर आरोप लगाना है।

इसकी चर्चा करते हुए कंग श्वांग ने कहा कि चीन द्वारा प्रस्तुत“बेल्ट एंड रोड”पहल आर्थिक सहयोगी प्रस्ताव है, जो कि चीन द्वारा अंतरराष्ट्रीय समुदाय को प्रस्तुत सार्वजनिक उत्पाद है। “बेल्ट एंड रोड”प्रस्ताव के निर्माण को आपसी सम्मान, सहयोग और उभय जीत के आधार पर बाज़ार और वाणिज्यिक सिद्धांत के अनुसार आगे बढ़ाया जा रहा है। अगर इसमें अतिरिक्त शर्त मौजूद होती, तो इतने परियोजनाओं का कार्यान्वयन नहीं हो पाता। अगर एकतरफ़ा लाभ मिलता, तो 140 से अधिक देश और अंतरराष्ट्रीय संगठन चीन के साथ समान निर्माण वाली सहयोगी संधि पर हस्ताक्षर नहीं करते।

कंग श्वांग ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय“बेल्ट एंड रोड”पहल का आम तौर पर स्वागत और समर्थन करता है। कुछ दिन पहले चीनी शीर्ष नेता और चीन के साथ कूटनीतिक संबंध स्थापित प्रशांत द्वीप देशों के नेताओं की सामूहिक मुलाकात हुई। द्वीपीय देशों के नेताओं ने“बेल्ट एंड रोड”के ढांचे में चीन के साथ वास्तविक सहयोग बढ़ाने की आशा जताई। उन्हें आशा है कि“बेल्ट एंड रोड”के समान निर्माण से खुद के आर्थिक सामाजिक विकास साकार हो सकेगा। कल फिलिपींस के वित्त मंत्री ने मीडिया को इंटरव्यू देते हुए कहा कि“बेल्ट एंड रोड”पहल पारदर्शी और उभय जीत वाला प्रस्ताव है। फिलिपींस ने स्वेच्छा से इस में भाग लिया है।

अमेरिका द्वारा आधारभूत संस्थापन के लिए दिए गए 60 अरब डॉलर वाले वित्त पोषण की चर्चा करते हुए कंग श्वांग ने कहा कि अमेरिका ने जिस भी उद्देश्य के साथ यह वादा किया है, वह क्षेत्रीय देशों के विकास के लिए हितकारी है। यह अच्छी बात है और चीन इसका स्वागत करता है। कुछ लोग संदेह की नज़र देख रहे हैं कि अमेरिका क्या सही मायने में अपने वचनों का पालन करेगा। हमें आशा है कि इस प्रकार का संदेह जरूर दूर हो जाएगा। अंतरराष्ट्रीय समुदाय अवश्य ही अमेरिका के अपने वचन के पालन पर उच्च स्तरीय ध्यान देगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी