बान की-मूनः चीन का सुधार और खुलेपन का अनुभव अन्य देशों के साथ साझा किया जा सकता है

2018-11-26 10:01:14

बोआओ एशिया मंच के परिषद के अध्यक्ष और पूर्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने हाल में सोल में चीनी पत्रकार के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि 1978 में चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने के बाद चीन के समाज में भारी परिवर्तन हुए हैं। चीन का विकास अनुभव अन्य देशों के साथ साझा किया जा सकता है।

बान की-मून ने कहा कि चीन में सुधार और खुलेपन की नीति के लागू होने के पिछले 40 वर्षों में चीन में अधिकांश लोग गरीबी से छुटकारा पा चुके हैं। अब चीन 2020 तक गरीब आबादी को मिटाने के लक्ष्य के लिए संघर्ष कर रहा है। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में चीन ज्यादा से ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। चीन संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन को सबसे ज्यादा पूंजी देने वाला दूसरा देश बन चुका है, और तो और जलवायु परिवर्तन और सामाजिक विकास समेत वैश्विक समस्याओं का हल करने में चीन ने भी अनिवार्य भूमिका निभाई है। चीन की भूमिका के बिना अनवरत विकास सहित संयुक्त राष्ट्र संघ के कई कार्यों को पूरा नहीं किया जा सकता है।

साक्षात्कार के अंत में बान की-मून ने कहा कि जलवायु परिवर्तन और विकास के लक्ष्य को पाने के लिए किसी भी देश दूसरे देश से अलग कर सकता है। इसलिए हमें मिलकर आगे बढ़ना चाहिए।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी