चीन-ब्रिटिश वित्तीय सहयोग प्रशंसनीय है:चीनी राजदूत

2018-12-04 11:31:00

ब्रिटेन स्थित चीनी राजदूत ल्यू श्याओ मींग ने 3 दिसंबर को लंदन शहर में "मानद नागरिक" शीर्षक लेते समय कहा कि यह सम्मान सिर्फ उन के लिए नहीं, बल्कि पूरे चीनी दूतावास को प्राप्त है।

ल्यू ने कहा कि चीन और ब्रिटेन के बीच वित्तीय सहयोग से दोनों देशों के विकास को बढ़ाया गया है। ब्रिटेन यूरोप में प्रथम ऐसा बड़ा देश है जिसने सर्वप्रथम एआईबीबी में शामिल किया, एआईबीबी विशेष निधि में पूंजी इंजेक्ट किया और "बेल्ट और रोड के लिए दिशानिर्देश" वित्त पोषण दिशानिर्देशों पर हस्ताक्षर किये। लंदन विश्व में सबसे बड़ा आरएमबी ऑफशोर ट्रेडिंग सेंटर है और दूसरा बड़ा आरएमबी ऑफशोर क्लियरिंग सेंटर भी है। ब्रिटेन आरएमबी संप्रभु बंधन जारी करने का पहला पश्चिमी देश भी है। इन सबसे चीन और ब्रिटेन के बीच वित्तीय सहयोग की क्रियाशीलता जाहिर हुई है। इस वर्ष चीन और ब्रिटेन के बीच आर्थिक व वित्तीय बातचीत करने की दसवीं वर्षगांठ है। अभी तक चीन के सात बैंकों ने लंदन में अपनी शाखाएं रखी हैं। चीन की मुख्य बीमा कंपनियों की लंदन शाखाएं भी स्थापित हो चुकी हैं। यह कहा जा सकता है कि चीन और ब्रिटेन के बीच वित्तीय सहयोग का प्रभाव द्विपक्षीय दायरे से परे हुआ है।

ल्यू ने कहा कि 21वीं शताब्दी के दूसरे दशक में चीन और ब्रिटेन के बीच पूर्ण रणनीतिक साझेदार संबंधों की स्थापना की गयी है। दोनों देशों ने व्यापार, निवेश, वित्त, तकनीकी नवाचार और संस्कृति के संदर्भ में उल्लेखनीय प्रगतियां हासिल की हैं। आशा है कि दोनों देश वैश्विक और सामरिक दृष्टि से द्विपक्षीय संबंधों को देखकर एक दूसरे के केंद्रीय हितों का समादर करेंगे और चीन-ब्रिटेन संबंधों का "स्वर्ण युग" बनाये रखेंगे।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी