चीन में सृजनात्मक बड़े देश के निर्माण में बौद्धिक संपदा अधिकार के संरक्षण की भूमिका बढ़ी

2018-12-11 17:30:04

अब चीन बौद्धिक संपदा अधिकार का बड़ा देश बन चुका है। सृजनात्मक बड़े देश के निर्माण के दौरान बौद्धिक संपदा अधिकार के संरक्षण की भूमिका दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है। 11 दिसम्बर को चीनी राज्य परिषद की सूचना कार्यालय द्वारा आयोजित एक पत्रकार सम्मेलन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू किये जाने के बाद पिछले 40 सालों में बौद्धिक संपदा अधिकार क्षेत्र में विकास और परिवर्तन का परिचय दिया गया।

आंकड़ों के मुताबिक 2017 में चीन में पेटेंट आवेदन के कुल 13 लाख 82 हज़ार मामले दर्ज हुए, जो लगातार 7 सालों में विश्व के पहले स्थान पर रहा। चीन द्वारा“पेटेंट सहयोग संधि”के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय पेटेंट आवेदन की संख्या 51 हज़ार रही, जो विश्व में दूसरे स्थान पर रहा। चीनी बौद्धिक संपदा अधिकार के प्रयोग खर्च की निर्यातित रकम 4 अरब 78 करोड़ 60 लाख अमेरिकी डॉलर थी, जिसकी वृद्धि दर देश भर में सेवा व्यापार में अग्रिम रही है।

वहीं, चीन में आविष्कार पेटेंट के आवेदन मामलों की गुणवत्ता लगातार बढ़ रही है। चीनी राष्ट्रीय बौद्धिक संपदा अधिकार ब्यूरो के पूर्व अधिकारी यिंग शिनथ्येन के मुताबिक अब देश में पेटेंट आवेदन मामलों की गुणवत्ता पर बड़ा महत्व दिया जा रहा है। सरकार ने कई कदम उठाए। विश्वास है कि संबंधित व्यवस्था की लगातार संपूर्णता के चलते पेटेंट आवेदन मामलों की संख्या और गुणवत्ता दोनों में सुधार आएगा।

बताया गया है कि इधर के सालों में पेटेंट गुणवत्ता की उन्नति से उच्च मूल्य वाले मूल पेटेंट का विकास किया जा रहा है। चीन सूचना, दूर संचार, विमानन, एयरोस्पेस, हाई स्पीड रेलवे और परमाणु ऊर्जा आदि क्षेत्रों में स्व-बौद्धिक संपदा अधिकार वाली मूल तकनीक कायम हुई।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी