टिप्पणीः पूरी दुनिया कनाडा को देख रही है

2018-12-13 11:01:00

स्थानीय समयानुसार 11 दिसम्बर को कनाडा के ब्रिटिश कोलम्बिया की उच्च स्तरीय अदालत ने चीनी ह्वावेई कंपनी की सीएफओ मंग वानचो की जमानत याचिका पर तीसरी सुनवाई की। सुनवाई के बाद आखिरकार मंग को जमानत पर रिहा किया जा सकता है। जमानत राशि 1 करोड़ कनाडाई डॉलर है, जिस में मकान और कैश शामिल हैं। इस के अलावा 5 जमानतदारों की आवश्यकता भी है। यह मंग वानचो और उन के परिजनों, उन की कंपनी और चीनी लोगों को थोड़ा सी राहत दे सकता है। कनाडा ने इस केस का निपटारा करने में सही कदम बढ़ाया है और सक्रिय सिगनल दिया, जो प्रशंसनीय है। लेकिन मंग वानचो के लिए स्वतंत्रता पाने का रास्ता बहुत लम्बा होगा। कनाडा की मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका संभवतः अगले साल की 8 जनवरी से पहले प्रत्यर्पण आवेदन देगा। यदि मंग वानचो का प्रत्यर्पण होता है, तो उन्हें संभवतः तीस साल की सज़ा होगी।

2008 में चीनी ह्वावेई कंपनी ने कनाडा में प्रवेश करना शुरू किया। कनाडा में ह्वावेई कंपनी ने कानून का उल्लंघन नहीं किया। इस के विपरीत ह्वावेई कंपनी की ओटावा, टोरंटो और वाटरलू आदि शहरों में अपनी अनुसंधान संस्थाएं हैं, जिन्होंने कनाडा के लिए 500 से ज्यादा रोजगार के मौके दिये हैं।

खेद की बात है कि आज विश्व शांतिप्रिय देश कनाडा ने अमेरिका के लिए मंग को नजरबंद किया। और तो और कनाडा और अमेरिका मंग द्वारा कानून का उल्लंघन किए जाने के सबूत भी नहीं दे सके। इस मूर्खतापूर्ण कार्यवाई की कनाडा को कीमत चुकानी पड़ सकती है। इसलिए कनाडा को परिस्थिति के मद्देनजर कदम उठाने चाहिए।

लम्बे अरसे से चीनी ह्वावेई कंपनी के प्रति कुछ पश्चिमी देश शत्रुता की भावना रखते हैं। उन्होंने कहा कि ह्वावेई कंपनी के चीन सरकार के साथ घनिष्ट संबंध हैं। इसी वजह से ह्वावेई कंपनी भी सब से ज्यादा जांच पाने वाला अंतर्राष्ट्रीय उद्यम है। लेकिन जांचकर्ता कोई भी विश्वसनीय सबूत नहीं दे सके हैं कि ह्वावेई कंपनी ने कानून विरोधी कार्यवाई की। इस के बारे में कानाडा साफ साफ जानता है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी