डब्ल्यूटीओ में आवश्यक सुधार करने के पक्ष में चीन

2018-12-13 19:30:00

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग ने 13 दिसम्बर को पेइचिंग में कहा कि चीन डब्ल्यूटीओ के व्यापक सदस्यों के साथ मिलकर डब्ल्यूटीओ के मूल मूल्य और आधारभूत सिद्धांत की लगातार रक्षा करता रहेगा, ताकि इस संगठन के प्राधिकरण और कारगरता को उन्नत किया जा सके। इसके अलावा, चुने गये नए दौर के खुलेपन का स्तर उन्नत करेगा, ताकि विभिन्न पक्षों के साथ मिलकर खुले विश्व अर्थतंत्र का निर्माण किया जा सके और आपसी लाभ व उभय जीत साकार हो सके।

इस वर्ष डब्ल्यूटीओ में चीन की सदस्यता की 17वीं वर्षगांठ है। विश्व व्यापार संगठन के प्रवक्ता ने हाल में इनटरव्यू देते हुए कहा कि डब्ल्यूटीओ में चीन को सदस्य बनाना बहुत महत्वपूर्ण है। नियम के आधार पर बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था का समर्थन करने वाले चीन जैसे देश डब्ल्यूटीओ के लिए अत्यंत आवश्यक है। इसकी चर्चा करते हुए कहा लू खांग ने यह बात कही।

लू खांग ने कहा कि पिछले 17 सालों में चीन डब्ल्यूटीओ के कार्यों में पूर्ण रूप से भाग लेता है और उसका समर्थन करता है। चीन व्यापार मुक्त, सुविधाकरण को सक्रिय रूप से आगे बढ़ाता है। चीन ने सबसे पहले “व्यापार सुविधाकरण संधि” पर हस्ताक्षर किया और नियम पर आधारित बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था का दृढ़ समर्थन किया। चीन ने वैश्विक शासन में डब्ल्यूटीओ के महत्वपूर्ण भूमिका निभाने को आगे बढ़ाया और आर्थिक वैश्विकता की प्रक्रिया में विकासमान देशों की हिस्सेदारी का समर्थन किया। लेकिन इन 17 सालों में खेद फिर भी मौजूद है। अधिकांश देशों ने सक्रिय आकलन किया कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय व्यापार के संवर्धन, बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था की रक्षा में बड़ा योगदान दिया, लेकिन फिर भी कुछेक देशों ने इसे अनदेखा किया। यहां तक कि चीन के डब्ल्यूटीओ में भागादारी संबंधी प्रोटोकॉल की 15वीं धारा को अस्वीकार किया, इस वजह से चीन के साथ पक्षपात किया गया।

चीनी प्रवक्ता लू खांग ने कहा कि वर्तमान में बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था नए कुंजीभूत चौराहे पर खड़ी है, एकतरफ़वाद और संरक्षणवाद के गंभीर प्रभाव का सामना करते हुए चीन बहुपक्षवादी रास्ते पर डटा रहेगा और विश्व व्यापार संगठन में आवश्यक सुधार करने का समर्थन करता रहेगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी