डब्ल्यूटीओ में भागीदारी के 17 साल की स्थितियों का परिचय दिया चीन ने

2018-12-14 11:01:00

विश्व व्यापार संगठन(डब्ल्यूटीओ) में चीन की भागीदारी के पिछले 17 साल में चीन और विश्व पर गहरा असर पड़ा। चीन बहुपक्षीयवाद के रास्ते पर चलता रहेगा और व्यापक डब्ल्यूटीओ के सदस्यों के साथ इस संगठन के केंद्र मूल्य और बुनियादी सिद्धांत की रक्षा करेगा। यह बात 13 दिसम्बर को चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू खांग ने राजधानी पेइचिंग में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कही।

चीन के डब्ल्यूटीओ में भाग लेने की 17वीं वर्षगांठ के अवसर पर डब्ल्यूटीओ के प्रवक्ता ने हाल में एक साक्षात्कार में कहा कि चीन का डब्ल्यूटीओ का सदस्य बनना बहुत महत्वपूर्ण था। इस की चर्चा में लू खांग ने कहा कि चीन ने डब्ल्यूटीओ के प्रवक्ता के उचित मूल्यांकन पर ध्यान दिया। इस साल चीन में सुधार व खुलेपन की नीति के लागू होने की 40वीं वर्षगांठ है। 17 सालों से पहले डब्ल्यूटीओ में भाग लेना इस महान प्रक्रिया में एक मील पत्थर की बात है, जिस का प्रभाव चाहे चीन हो या फिर पूरी दुनिया सभी के लिए अति महत्वपूर्ण है।

लू खांग ने कहा कि पिछले 17 सालों में चीन ने कड़ाई से डब्ल्यूटीओ के नियमों के मुताबिक अपने वचनों का पालन किया। वैश्वीकरण में गहन रूप से मिलने से चीन विश्व का सब से बड़ा कार्गो व्यापारिक देश बन चुका है। साथ ही चीन के आर्थिक विकास और गरीबी उन्मूलन प्रक्रिया को भी तेज़ किया गया है।

पिछले 17 सालों में चीन ने डब्ल्यूटीओ के कार्यों में सक्रिय भागीदारी की और व्यापार की स्वतंत्रता और सुविधापूर्ण को आगे बढ़ाया। चीन ने सर्वप्रथम व्यापार के सुविधापूर्ण समझौते पर हस्ताक्षर किये और नियम आधारित बहुपक्षीयवादी व्यापारिक व्यवस्था का दृढ़ समर्थन करता है। चीन ने डब्ल्यूटीओ के वैश्विक आर्थिक प्रशासन में अहम भूमिका अदा की है। लेकिन पिछले 17 सालों में खेद भी हैं। अधिकांश देशों ने चीन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को आगे बढ़ाने और बहुपक्षीयवादी व्यापारिक सिस्टम की रक्षा के लिए दिये गये भारी योगदान की सराहना करने के साथ साथ कुछ देशों ने इसे नजरअंदाज कर चीन द्वारा डब्ल्यूटीओ में भाग लेने के प्रोटोकॉल के 15वीं धारा के कार्यान्वयन से इनकार किया। जो चीन के साथ अन्यायपूर्ण व्यवहार है।

लू खांग ने कहा कि हाल में बहुपक्षीय व्यापारिक सिस्टम एक नये अहम दौर में पहुंच चुका है। चीन बहुपक्षीयवाद के रास्ते पर कायम रहेगा और डब्ल्यूटीओ के आवश्यक सुधार का समर्थन करता रहेगा। चीन व्यापक डब्ल्यूटीओ के सदस्यों के साथ मिलकर डब्ल्यूटीओ के केंद्र मूल्य और बुनियादी सिद्धांत की रक्षा कर इस संगठन की प्रतिष्ठा और कारगरता को उन्नत करेगा। चीन देश में नये दौर के उच्च स्तरीय खुलेपन को आगे बढ़ाने के जरिए विभिन्न पक्षों के साथ खुलेपन विश्व अर्थतंत्र का सहनिर्माण करेगा, ताकि आपसी लाभ व साझी जीत हासिल कर सकें।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी