अमेरिकी संसद की तिब्बत संबंधी बिल से अपने अन्दरूनी मामलों में हस्तक्षेप का विरोध करता है चीन

2018-12-15 15:00:00

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने 14 दिसंबर को पेइचिंग में कहा कि अमेरिकी संसद ने तथाकथित तिब्बत में समान प्रवेश बिल पास कर चीन के अन्दरूनी मामलों में क्रुरता से हस्तक्षेप लगाया। चीन इसका दृढ़ता से विरोध करता है।

अमेरिकी संसद ने एक बिल पास कर तिब्बत में अमेरिकी राजनयिकों, संवाददाताओं और पर्यटकों के प्रवेश की इजाजत करने की मांग की। इस बात को लेकर लू कांग ने कहा कि अमेरिकी संसद में पारित बिल ने तथ्यों का उल्लंघन कर चीन के अन्दरूनी मामलों में हस्तक्षेप किया। चीन ने इसका दृढ़ता से विरोध कर अमेरिका को गंभीरता से मामला उठाया। तिब्बत मामला चीन का अन्दरूनी मामला है, किसी भी दूसरे देश की तरफ से हस्तक्षेप करना असहनीय है। विदेशी व्यक्ति समान्य माध्यम से तिब्बत का दौरा कर सकते हैं। वास्तव में प्रति वर्ष बहुत से विदेशी व्यक्ति तिब्बत का दौरा करने जाते हैं। वर्ष 2015 से कुल चालीस हजार अमेरिकी व्यक्तियों ने तिब्बत की यात्रा की है। उनमें अमेरिका के सांसद भी शामिल हैं। अमेरिकी संसद में पारित बिल में की गयी आलोचना बिल्कुल निराधार है और चीनी सरकार व जनता इसका स्वीकार बिल्कुल नहीं कर सकती है।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी