टिपण्णीः चीन देश के सुधार और खुलेपन के साक्षी, भागीदारी के लिए विदेशी लोगों को नहीं भूलता

2018-12-19 19:30:00

1978 में चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने लगी। इसने न सिर्फ चीन को बदला है, बल्कि विश्व पर भी इसका असर पड़ा है। पिछले 40 सालों की विकास उपलब्धियों की स्मृति में चीन, चीन की मदद करने वाले विदेशी लोगों को कभी नहीं भूलता है।

सुधार और खुलेपन की 40वीं वर्षगांठ मनाने के समारोह में चीनी राष्ट्रपति ने अहम भाषण देकर चीन के सुधार और खुलेपन, आधुनिक निर्माण में भाग लेने वाले और समर्थन देने वाले विदेशी मित्रों और विश्व के विभिन्न देशों की जनता के प्रति आभार प्रकट किया। 10 विदेशी दोस्तों को चीन के सुधार के मित्र पदक दिये गये। वे लोग विभिन्न देशों से आये हैं, जो चिकित्सा, निर्माण, खेल, सेवा, राजनीति और वित्त जैसे कई क्षेत्रों में कार्यरत हैं। उनका एक समान नाम है चीन में सुधार और खुलेपन का साक्षी और योगदानकर्ता।

वास्तव में चीन के सुधार और खुलेपन में करोड़ों विदेशी लोगों ने योगदान दिया है। ये दस विजेता विश्व की ओर चीन के खुलेपन की झलक हैं। उन्होंने चीन के सुधार और खुलेपन के लिए कई काम किये और उल्लेखनीय योगदान दिया है। चीनी जनता उन्हें कभी नहीं भूलेगी।

निसंदेह विकसित चीन ने भी विश्व के लिये कई भले काम किये हैं। चीन का विशाल बाज़ार कई अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों का नया आर्थिक विकास क्षेत्र बन चुका है। कई वर्षों में विश्व आर्थिक विकास में चीन की योगदान दर 30 प्रतिशत से ज्यादा रही है। वर्ष 2013 से 17 के बीच चीन ने एक पट्टी एक मार्ग से जुड़े देशों में अनेक आर्थिक और व्यापारिक सहयोग क्षेत्रों की स्थापना की, जिसने स्थानीय लोगों को 2 लाख से ज्यादा रोजगार के मौके दिये हैं।

आज चीन सुधार और खुलेपन को और गहरा कर रहा है। 40 सालों से पहले की तुलना में आज चीन विदेशी उद्यमों को और बड़े विकास के मौके दे सकता है। चीन में नये दौर के सुधार और खुलेपन का साक्षी बनना, भाग लेना और साझा करना हरेक विदेशी व्यक्ति, हरेक विदेशी उद्यम के लिए मूल्यवान मौका होगा।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी