चीन अमेरिका के तिब्बत ऐक्ट का कड़ा विरोध करता है - विदेश मंत्रालाय के प्रवक्ता

2018-12-21 10:31:00

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ छुन इंग ने 20 दिसंबर को बताया कि चीन अमेरिकी पक्ष से अमेरिकी कांग्रेस में पारित तथाकथित वर्ष 2018 तिब्बत में रेसिप्रोकल ऐक्सेस ऐक्ट पर हस्ताक्षर करने का कड़ा विरोध करता है।

उन्होंने कहा कि ये ऐक्ट अंतरराष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी नियमों का गंभीर उल्लंघन है ।अमेरिका चीन के अंदरूनी मामले में बेहूदगी से हस्तक्षेप करता है और तथाकथित तिब्बती स्वतंत्रता की शक्ति को गंभीरता के साथ गलत संकेत देता है। वह चीन-अमेरिका आवाजाही और सहयोग को गंभीर नुकसान पहुंचाएगा।

उन्होंने बल देते हुए कहा कि तिब्बत मामला एकदम चीन का अंदरूनी मामला है, जिसमें किसी भी विदेशी शक्ति के हस्तक्षेप की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि चीन का तिब्बत और अन्य चार प्रांतों के तिब्बती क्षेत्र विदेशियों के लिए खुले हैं। वर्ष 2015 से अबतक लगभग 40 हज़ार अमेरिकियों ने तिब्बत की यात्रा की है। विशेष स्थानीय भौगोलिक और मौसम स्थिति के मद्देनज़र चीन सरकार कानून के अनुसार तिब्बत में विदेशियों की पहुंच पर जो कुछ प्रबंधन करती है, वे जरूरी और अनिंदनीय है। अगर अमेरिका इस कानून को अमल में लाता है, तो द्विपक्षीय संबंधों और महत्वपूर्ण क्षेत्रों के आदान-प्रदान को गंभीर नुकसान पहुंचेगा ।चीनी पक्ष अपने हितों की रक्षा के लिए मजबूत कदम उठाएगा।

उन्होंने कहा कि चीन अधिकतर विदेशियों का चीन के तिब्बती क्षेत्रों की यात्रा करने का स्वागत करता है, लेकिन इसकी पूर्वशर्त है कि उनको चीनी कानून और संबंधित नियमों का पालन कर जरूरी प्रक्रिया पूरी करनी चाहिये।(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी