2018 तिब्बत अधिनियम के बराबर पहुंचने के अमेरिका के विधेयक पर चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा के विदेश मामलों की समिति की घोषणा

2018-12-21 11:30:00

अमेरिकी राष्ट्रपति ने अमरीकी कांग्रेस के 2018 तिब्बत अधिनियम के बराबर पहुंचने के विधेयक पर हस्ताक्षर किए। यह विधेयक कानून बन गया है। इस विधेयक में चीन के तिब्बत के खुलेपन की नीति की बदनामी की गई है, कथित बराबरी के सिद्धांत, झूठे और गलत शब्दों से चीनी अधिकारियों द्वारा एक भेदभाव वाली वीज़ा की नीति अपनाई जाने की बात कही। इससे अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी सिद्धांतों का उल्लंखन करते हुए धृष्ठतापूर्वक चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप किया गया है, चीनी जनता की भावना को ठेस किया गया, तथाकथित तिब्बत की स्वाधीनता के पक्षकारों को गंभीर और ग़लत सूचना भी दी गई। चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा ने इस पर जबरदस्त रोष और इसका मज़बूत विरोध किया।

तिब्बत का मामला चीन का आंतरिक मामला है, कोई भी विदेशी शक्ति इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकती है। चीन के तिब्बत और अन्य चार प्रांतों के तिब्बती क्षेत्र विभिन्न देशों के लोगों के लिए खुले हैं। 2015 से तिब्बत की यात्रा करने वाले अमेरिका के लोगों की संख्या 40 हजार रही है, जिनमें कई खेप के अमरीकी कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल भी शामिल हैं। स्थानीय विशेष भौगोलिक और जलवायु स्थितियों पर चीन सरकार कानून और नियम के अनुसार विदेशी लोगों के तिब्बत में पहुंचने के लिए कुछ प्रबंधन कदम उठाती है। यह सही आवश्यक है। अमेरिका के संबंधित विधेयक में चीन के ख़िलाफ़ आरोप तथ्यों का उल्लंघन करता है, हम बिल्कुल स्वीकार नहीं करते हैं। चीन अपने हितों की दृढ़ता से रक्षा करने के लिए भी मज़बूत कदम उठाएगा।

चीन के खुलेपन का द्वार और बड़ा होगा, तिब्बत भी और खुलेगा। चीन तिब्बत में यात्रा, पर्यटन, व्यापार करने के लिए और अधिक विदेशी लोगों का स्वागत करता है। चीन की इस नीति में कोई बदलाव नहीं आएगा, लेकिन इस की पूर्वशर्त है चीन के कानून, संबंधित नियम का गंभीरता से पालन किया जाएगा, आवश्यक प्रक्रियाएं की जाएगी।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी