चीन-भारत उच्च स्तरीय सांस्कृतिक आदान प्रदान प्रणाली की पहली बैठक आयोजित

2018-12-21 19:30:00

21 दिसम्बर को चीन-भारत उच्च स्तरीय सांस्कृतिक आदान प्रदान प्रणाली की पहली बैठक राजधानी नयी दिल्ली में बुलायी गयी। चीनी स्टेट काउंसिलर और विदेश मंत्री वांग यी ने भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ बैठक की अध्यक्षता की।

वांग यी और स्वराज ने अलग अलग तौर पर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बधाई पत्र सुनाये।

इस मौके पर वांग यी ने कहा कि चीन-भारत उच्च स्तरीय सांस्कृतिक आदान प्रदान प्रणाली की स्थापना शी चिनफिंग और मोदी के बीच संपन्न अहम सहमति है। आज इस प्रणाली की औपचारिक रूप से शुरू की जाएगी, जिस का बहुत अहम अर्थ है। यह चीन-भारत संबंधों के व्यापक विकास को आगे बढ़ाने का अहम कदम है, साथ ही दोनों देशों के नेताओं की सहमति का कार्यान्वयन करने का अहम कदम भी है। वांग यी ने कहा कि इस साल चीन-भारत संबंधों के विकास इतिहास में असाधारण साल है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के साथ वूहान में भेंटवार्ता की, जिसका मील के पत्थर का अर्थ है। दोनों नेताओं ने कई जगहों में तीन बार भेंटवार्ताएं कीं और चीन-भारत भावी संबंध की बड़ी दिशा स्पष्ट भी की। चीन भारत के साथ इस सांस्कृतिक आदान प्रदान प्रणाली की भूमिका अदा कर विविध संसाधनों का इस्तेमाल कर अपनी श्रेष्ठताओं का प्रसार करेगा, ताकि नये ऐतिहासिक स्थिति में चीन-भारत सांस्कृतिक आवाजाही में नयी प्रगति मिल सके।

भारतीय विदेश मंत्री स्वराज ने कहा कि दोनों देशों के नेताओं ने वूहान भेंटवार्ता के दौरान उच्च स्तरीय सांस्कृतिक आदान प्रदान प्रणाली की स्थापना करने पर सहमति प्राप्त की, जिस से दूर दृष्टि दिखायी गयी है। भारत और चीन दो पुरानी सभ्यता वाले देश हैं। दोनों के बीच इस आदान प्रदान प्रणाली की स्थापना से अवश्य ही द्विपक्षीय सांस्कृतिक आवाजाही के लिए नया प्लेटफार्म तैयार होगा। पहली बैठक का सफल आयोजन द्विपक्षीय सांस्कृतिक आदान प्रदान के सहयोग को नयी ऊँचाई तक उन्नत कर सकता है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी