टिप्पणीःचीनी अर्थव्यवस्था के त्रिआयाम

2018-12-24 19:00:00

चीनी केंद्रीय आर्थिक कार्य बैठक पिछले हफ्ते आयोजित हुई। इसमें वर्ष 2018 के कार्यों का सार कर वर्तमान आर्थिक स्थिति का गहन विश्लेषण किया गया और अगले साल के आर्थिक कार्य का इंतजाम किया गया। कहा जा सकता है कि इस बैठक ने अगले साल के आर्थिक कार्य की मुख्य दिशा तय की है। चीनी आर्थिक स्थिति को सही रूप से समझने के लिए इसे तीन आयामों से देखने की जरूरत है ।

पहला ,उपल्बधियां मिलना आसान नहीं है। वर्ष 2018 चीन के लिए एक असामन्य साल है। आर्थिक वैश्विकरण विरोधी तत्व, व्यापारिक संघर्ष और बाहरी पर्यावरण की अस्थिरता बढ़ने के साथ अंतररराष्ट्रीय समुदाय ने इस कार्य बैठक पर बड़ा ध्यान दिया। इस बैठक में यह निष्कर्ष निकाला गया कि चालू साल चीन ने अर्थव्यवस्था का सतत, स्वस्थ विकास और सामाजिक स्थिरता बनाए रखी और संपूर्ण खुशहाल समाज का निर्माण पूरा करने की दिशा में नया कदम उठाया। इन उपलब्धियों की प्राप्ति आसान नहीं है।

दूसरा, चीन का विकास महत्वपूर्ण रणनीतिक अवसर के काल से गुज़र रहा है और लंबे समय तक ऐसे चरण में बना रहेगा।

इस बैठक में यह माना गया कि वर्तमान आर्थिक संचालन में स्थिरता में बदलाव आ रहा है और बदलाव में चिंताजनक तत्व भी है, लेकिन चीन का विकास लंबे समय तक महत्वपूर्ण रणनीतिक अवसर काल में बना रहेगा। इस निष्कर्ष का मुख्य कारण है कि शांति और विकास वर्तमान युग का मुख्य विषय है। आर्थिक वैश्विकरण में उल्टी धारी अभर रही है ,लेकिन मुख्य धारा नहीं मुड़ेगी। इसके साथ नये दौर की वैज्ञानिक क्रांति और व्यावसायिक सुधार से पैदा नयी तकनीक, नये व्यावसायिक मॉडल और नए नमूने को वैश्विक बाज़ार की ज़रूरत है। चीन के पास विशाल बाज़ार की संभावनाएं और खुलेपन के विस्तार का विश्वास और कदम भी है।

तीसरा, 2019 के मुख्य आर्थिक कार्य

अगले साल नये चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ है और देश में संपूर्ण रूप से खुशहाल समाज बनाने का कुंजीभूत साल है। आर्थिक विकास अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस बैठक में आधुनिक बाज़ार व्यवस्था की स्थापना में तेज़ी लाने, बड़े ख़तरे की रोकथाम, ग़रीबी उन्मूलन, चतुर्मुखी खुलापन बढ़ाने ,जनजीवन सुधारने समेत सिलसिलेवार नीतियां पेश की गयीं।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी