"थाइवान के देशबंधुओं को सूचना पत्र" की 40वीं वर्षगांठ पर मुख्य भूमि में सम्मेलन आयोजित

2019-01-02 17:01:07

2 जनवरी को चीनी राजधानी पेइचिंग में "ताइवान के देशबंधुओं को सूचना पत्र" जारी करने की 40वीं वर्षगांठ पर एक सम्मेलन आयोजित हुआ। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव, राष्ट्रपति और सैन्य आयोग के अध्यक्ष शी चिनफिंग ने सम्मेलन में भाषण दिया। उन्होंने कहा कि नये युग में चीनी राष्ट्र के लिए महान कार्य करने का युग होगा। हम समान प्रयासों से राष्ट्र का पुनरुत्थान करने का महान लक्ष्य पूरा कर सकेंगे।

सम्मेलन में शी चिनफिंग ने कहा कि सन 1949 से अभी तक चीनी कम्युनिस्ट पार्टी, चीनी सरकार और जनता ने थाइवान सवाल का समाधान करना और मातृभूमि के एकीकरण को अपना अविचल ऐतिहासिक मिशन के रूप में तय किया है। थाइवान चीन के एक भाग होने और दोनों तटों को एक चीन के अधीन होने का ऐतिहासिक व वैधानिक तथ्यों को किसी भी व्यक्तियों के द्वारा नहीं बदला जाएगा। देश के शक्तिशाली होने, चीनी राष्ट्र के पुनरुत्थान होने और एकीकरण होने की ऐतिहासिक प्रवृत्तियों को भी किसी भी व्यक्तियों के द्वारा नहीं बदला जाएगा। हमारी मातृभूमि का पुनरेकीकरण जरूर ही किया जाएगा। थाइवान के देशबंधु भी चीनी राष्ट्र के सदस्य हैं। राजनीतिक व्यवस्थाओं का फर्क भी एकीकरण के लिए बाधा नहीं हैं, और वह विभाजन का बहाना भी नहीं है। थाइवानी देशबंधुओं के हितों के बारे में ध्यान देने के लिए “एक देश में दो व्यवस्थाएं” का सिद्धांत पेश किया गया था। देश की प्रभुसत्ता, सुरक्षा और विकास के हितों की गारंटी की शर्तों पर शांतिपूर्ण एकीकरण होने के बाद थाइवानी देशबंधुओं की निजी संपत्तियों, धार्मिक विश्वास और कानूनी हितों की गारंटी की जाएगी।

शी चिनफिंग ने कहा कि एक चीन के सिद्धांत पर हम किसी भी थाइवानी राजनीतिक दलों और संगठनों के साथ संपर्क रखने को तैयार हैं। हम यह सुझाव पेश करते हैं कि एक चीन की सहमति और थाइवानी स्वतंत्रता का विरोध करने के आधार पर दोनों तटों के प्रतिनिधियों के बीच दोनों तटों के संबंधों और राष्ट्र के भविष्य पर गहराई में विचार विमर्श किया जाएगा और दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास पर संस्थागत प्रबंधन कायम किया जाएगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी